पटना जंक्शन पर पकड़ाया फर्जी TTE, पूछने पर खुद को बताया IPS का भाई

FRAUD-TTE
रेल पुलिस की हिरासत में फर्जी TTE

पटना : रेल पुलिस के शिकंजे में एक ऐसा शातिर आया है, जो अपनी जरूरतों के अनुसार पहचान बदलता है. कभी वो रेलवे का टीटीई बन जाता है तो कभी आईपीएस अधिकारी का भाई. जब जैसी जरूरत पड़ी, वैसी खुद की पहचान सामने वाले को बता दी. हर पल अपनी पहचान बदलने वाला ये शख्स एक शातिर ठग है. जो अब पटना रेल पुलिस की गिरफ्त में है. पकड़े गए इस शातिर ठग का नाम समर सिंह है. जो नालंदा जिले के हिलसा का रहने वाला है. लंबे समय ये अपनी पहचान बदल—बदल कर लोगों को ठगने का काम करता आ रहा है.

ये ऐसा शातिर है जिसे पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद भी उसके चेहरे पर शिकन नाम की चीज नहीं थी. पुलिस वालों के सामने भी ये शातिराना हरकतों से बाज नहीं आ रहा था. जबकि इसे अच्छे एहसास था कि इसकी जगह अब जेल में सलाखों के पीछे है.



लगा था टीटीई बन पैसेंजर्स को चूना लगाने में

समर सिंह टीटीई बन कर रेलवे पैसेंजर्स को चूना लगाने में जुटा हुआ था. वो पटना जंक्शन के प्लेटफॉर्म नंबर 10 पर था. ट्रेन का इंतजार कर रहे पैसेंजर्स की उसने टिकट चेक की.​ फिर उनके सामानों को चेक करने लगा. उनसे रुपए ठगने के लिए तरह—तरह की बातें कर रहा था. यहां तक कि एक पैसेंजर के साथ उलझने भी लगा. इसी दौरान पटना जंक्शन रेल थाने की पुलिस टीम को किसी नकली टीटीई के प्लेटफॉर्म पर घूमने की सूचना मिली. रेल पुलिस की टीम ने उसकी तलाश शुरू की और कुछ ही देर में उसे अपने कब्जे में ले लिया.

दिखाने लगा धौंस

जब इस शातिर को रेल पुलिस की टीम पकड़ कर थाने लाई तो वो जवानों पर धौंस दिखाने लगा. उसने खुद को आईपीएस अधिकारी का भाई बताया. जब उससे ये पूछा गया कि क्यों पैसेंजर्स के सामान और उनके टिकट को चेक कर रहा था? जवाब में शातिर ने कहा कि अधिकारी का भाई हूं, ​इसलिए किया. जबकि रेल पुलिस की जांच में ये बात स्पष्ट हुई कि न तो ये टीटीई था और न ही इसका कोई भाई आईपीएस अधिकारी है. बस ये एक शातिर ठग है.