पटना में खतरे के निशान के नजदीक पहुंची गंगा, नौ अगस्त से भारी बारिश के भी आसार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: राजधानी पटना में गंगा नदी का जलस्तर खतरे के निशान के नजदीक पहुंच गया है. शुक्रवार को जलस्तर गांधी घाट पर 48.12 मीटर था. यह खतरे के निशान से 48 सेंटीमीटर नीचे था. हालांकि दीघा घाट पर गंगा का जलस्तर 49.33 मीटर था. यह खतरे के निशान से एक मीटर 22 सेंटीमीटर नीचे था. इसके साथ ही कहलगांव में गंगा नदी खतरे के निशान से नौ सेंटीमीटर ऊपर बह रही थी. हाथीदह, मुंगेर और भागलपुर में नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी का रुख है.
जल संसाधन विभाग ने सभी बाढ़ सुरक्षात्मक तटबंधों को सुरक्षित होने का दावा किया है. केंद्रीय जल आयोग के अनुसार कोसी नदी का जलस्तर खगड़िया जिले के बलतारा में खतरे के निशान से 125 सेंमी और कुरसेला में 25 सेंमी ऊपर था. गंडक नदी का जलस्तर गोपालगंज के डुमरिया घाट पर खतरे के निशान से 83 सेंमी ऊपर था. बुढ़ी गंडक नदी सिकंदरपुर में 68 सेंमी, समस्तीपुर में 183 सेंमी, रोसड़ा में खतरे के निशान से 320 सेंमी और खगड़िया में 129 सेंटीमीटर ऊपर बह रही थी.

जानकारी के अनुसार प्रदेश में 9 अगस्त से बारिश के आसार बन रहे है. अगस्त के पहले सप्ताह में दूसरी बार बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती सर्कुलेशन की वजह से कम दाब का केंद्र बन रहा है. जिसके कारण प्रदेश में पुरवैया हवा चलेगी. बल्कि मध्यम से भारी बारिश के आसार बन रहे हैं. प्रदेश के पूर्वी हिस्से में ज्यादा बारिश के आसार हैं.