गया: कोरोना संदिग्ध अधिकारी अनिल कुमार सिंह की मौत, NMCH में चल रहा था इलाज

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में कोरोना का खतरा बढ़ता ही जा रहा है. आम से लेकर खास तक इसकी चपेट में आ गया है. ताजा मामला गया जिले का है. जहां डोभी प्रखंड के श्रम पदाधिकारी अनिल कुमार सिंह की एएनएमसीएच में इलाज के दौरान मौत हो गई. उन्हें गंभीर स्थिति में एक दिन पहले एएनएमसीएच में भर्ती कराया गया था और अगले दिन ही उनकी मौत हो गई.

जानकारी के मुताबिक, अनिल कुमार की कोरोना की जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें कोरोना के संदिग्ध मरीज के रूप में चिन्हित करते हुए कोविड-19 के प्रोटोकॉल के तहत शव को परिजनों को सौंप दिया है. मृतक अनिल कुमार सिंह के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है.



मृतक के बेटे कुशाग्र कुमार ने कहा कि उन्हें समय से ऑक्सीजन नहीं दिया गया और किसी डॉक्टर ने उन्हें देखने तक की जहमत नहीं उठाई. जिसकी वजह से उनके पिता को असमय ही अपनी जान गंवानी पड़ी.

गया के एएनएमसीएच को कोविड-19 डेडीकेटेड अस्पताल के रूप में सरकार ने चिन्हित किया है और यहां अभी सिर्फ कोरोना से जुड़े हुए मरीजों को ही इलाज के लिए भर्ती किया जा रहा है इसके बावजूद भर्ती मरीजों के इलाज में लगातार लापरवाही की शिकायत परिजनों द्वारा की जा रही है. डोभी के श्रम पदाधिकारी अनिल कुमार सिंह की मौत मामले मे भी परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाया है.