इनकम टैक्स बिल पास : पढ़िए अघोषित आय पर क्या-क्या लगेंगे

पटना : आठ नवंबर को घोषित नोटबंदी के बाद देश भर के बैंकों में अघोषित आय काफी जमा हो गयी है. बैंकों में जमा ऐसी अघोषित आय पर टैक्स, पेनल्टी से लेकर सरचार्ज तक वसूले जायेंगे. इस संबंध में सोमवार को अघोषित आय पर टैक्स वसूलने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में इनकम टैक्स संशोधन विधेयक पेश किया. इस बिल के मुताबिक नोटबंदी की घोषणा से अब तक जमा अघोषित आय पर 30 पर्सेंट टैक्स, 10% पेनल्टी और 33 पर्सेंट सरचार्ज वसूले जायेंगे. यह सरचार्ज कुल टैक्स पर वसूला जाएगा, जो 13 पर्सेंट के करीब होगा. इस सरचार्ज को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण सेस का नाम दिया गया है. 30 दिसबंर के बाद गरीब कल्याण योजना को बंद करने की बात हो रही है.

बिहार में भारत बंद का मिला-जुला असर, जगह-जगह ट्रेनें रोकी गई



विभाग पकड़ेगा तो और भी कड़ी कार्रवाई

यही नहीं, यदि संबंधित व्यक्ति खुद इस रकम की घोषणा नहीं करता है और आयकर विभाग पकड़ता है, तो इस राशि पर 75 पर्सेंट टैक्स और 10 पर्सेंट पेनल्टी लगेगी. गौरतलब है कि बैंकों के पास करीब 6.50 लाख करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं.

बिल की सबसे खास बात

बिल की सबसे खास बात यह है कि 2.5 लाख रुपये से अधिक की अघोषित आय के 25 पर्सेंट हिस्से को सरकार गरीब कल्याण योजना के फंड में जमा किया जाएगा. यह राशि शिक्षा, स्वास्थ्य और इन्फ्रास्ट्रक्चर पर खर्च की जायेगी. इस स्कीम को पीएम गरीब कल्याण योजना के तहत लांच किया गया है. सरकार ने अघोषित आय पर करीब 75 पर्सेंट टैक्स लगाने का फैसला लिया है, जबकि बाकी बची 25 पर्सेंट रकम को निकाला जा सकेगा. गरीब कल्याण योजना के तहत खर्च होने वाली राशि को घर, सिंचाई और शौचालय में खर्च किया जायेगा.

ब्लैक मनी वालों के लिए सुनहरा मौका

जानकारी के अनुसार इस बिल संशोधन को ब्लैक मनी रखनेवालों के लिए एक और मौके की तरह देखा जा रहा है. हालांकि जमा रकम पर कितना फाइन होगा, इस बारे में कुछ भी क्लियर नहीं है. इस बिल को मनी बिल की तरह पेश किया गया. इससे राज्यसभा में बिल के पास होने में कोई प्रॉब्लम नहीं होगी. अघोषित आय जमा कराने वाले लोगों का नाम उजागर नहीं किया जायेगा.

यह भी पढ़ें :
इस तरह कैश-लेस होकर काम कर सकते हैं आप
इनकम टैक्स असेस्मेंट का कार्य अब जनवरी से दिसंबर तक
भाजपा ने जमीन खरीद में किया ब्लैक मनी का इस्तेमाल
सासंद के दामाद के घर से मिले गायब 3.5 करोड़ रुपये, मनी लॉन्डरिंग का भी हो सकता है खेल