निर्मल बाबा के शिष्य हो गए हैं सुशील मोदी – संजय सिंह

पटना : कार्यक्रम कार्यान्वयन समितियों पर भाजपा नेता सुशील मोदी के आरोपों का जवाब देते हुए जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा है कि कैबिनेट विभाग ने राज्य, जिला और प्रखंडस्तरीय कार्यक्रम कार्यान्वयन समितियों के नए सिरे से गठन के लिए आदेश जारी कर दिया है. राज्य स्तरीय इस समिति के अध्यक्ष मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री कार्यकारी अध्यक्ष होंगे. उपाध्यक्षों को मुख्यमंत्री द्वारा मनोनीत किया जाएगा. उन्होंने सवाल उठाया कि राज्यस्तरीय कार्यक्रम कार्यान्वयन समितियों को भंग करके नए रुप में गठन किया जा रहा है तो इसमें आपके पेट में क्यों दर्द हो रहा है ?



उन्होंने समिति के कार्यों का जिक्र करते हुए कहा कि राज्यस्तरीय समिति में सरकारी सदस्यों, एमपी, एमएलए और एमएलसी को छोड़ अन्य सदस्यों को बैठक में भाग लेने पर 300 रुपए दैनिक भत्ता और 1500 रुपए यात्रा भत्ता मिलेगा. जिलास्तरीय समिति के तीनों उपाध्यक्षों को प्रति माह 1000 रुपए आतिथ्य भत्ता मिलेगा. सदस्यों को बैठक में भाग लेने पर 200 रुपए दैनिक भत्ता और 500 रुपए यात्रा भत्ता मिलेगा.

sanjay1

सिंह ने कहा कि निरीक्षण के लिए माह में एकबार तीनों उपाध्यक्षों को डीएम द्वारा सरकारी वाहन मुहैया कराया जाएगा. प्रखंडस्तरीय समिति के अध्यक्ष और दोनों उपाध्यक्षों को प्रति माह 500 रुपए आतिथ्य भत्ता दिया जाएगा. सदस्यों को बैठक में भाग लेने पर 200 रुपए दैनिक भत्ता और 50 रुपए यात्रा भत्ता दिया जाएगा. राज्यस्तरीय समिति में 25, जिलास्तरीय समिति में 30 प्रखंडस्तरीय समिति में 20 सदस्यों का मनोनयन मुख्यमंत्री द्वारा किया जाएगा.

वरिष्ठ भाजपा नेता पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि सुशील मोदी निर्मल बाबा के शिष्य हो गए है. दूर से ही अंदाजा लगाने लगते है कि क्या होने वाला है. बिहार में महागठबंधन ने ही बीजेपी की हालत पतली कर दी थी . सुशील मोदी जी ,पहले अपने घर को ठीक कीजिए , तब दूसरे के घर में देखा कीजिए.

यह भी पढ़ें :
सुमो ने उठाया सवाल, कार्यक्रम कार्यान्वयन समितियों के पुनर्गठन का औचित्य नहीं
सरकार ने अपने लोगों को पहले ही दे थी नोटबंदी की खबर : दिग्विजय सिंह
भारत में Cashless इकॉनमी की बात बस एक कल्पना : नीतीश कुमार