बिहार विधानसभा : भाजपा ने बंद समर्थकों को बताया ‘कालेधन का दलाल’

पटना. बिहार विधानसभा के शीत सत्र का दूसरा दिन आज भारत बंद पर भाजपा के हंगामे की भेंट चढ़ गया. दोनों सदनों में विपक्षी भाजपा ने नोटबंदी के विरोध को लेकर जमकर हंगामा किया और नारेबाजी की.



भाजपा का हंगामा

सोमवार की सुबह विधान परिषद् की कार्यवाही शुरू होते ही सभी भाजपा सदस्य हंगामा करते हुए सदन के वेल में पहुंच गये और नारेबाजी करने लगे. कई सदस्यों ने नारेबाजी करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राजद सुप्रीमो लालू यादव और दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल को कालाधन का दलाल तक कह दिया.

इस पर सभापति सहित कांग्रेस और राजद नेताओं ने आपत्ति भी जताई मगर भाजपा सदस्य नारेबाजी करते रहे. इस वजह से सदन की कार्रवाई कई बार रोकना पड़ा और आखिर में मंगलवार 11 बजे तक कार्रवाई स्थगित कर दी गई.

bjp

भाजपा नेताओं का कहना था कि नोटबंदी पर आम जनता पीएम के साथ है, मगर अन्य पार्टियां माहौल बिगाड़ रही हैं. उधर जदयू ने भाजपा सदस्यों पर सदन के मर्यादा के अनुसार काम नहीं करने का आरोप लगाया. पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने भी भाजपा पर पलटवार करते हुए कहा कि ये लोग उल्टा चोर कोतवाल को डांटे वाली बात कर रहे हैं.

भारत बंद और आक्रोश मार्च को जनता ने नकारा : सुशील मोदी

इस बीच वरिष्ठ भाजपा नेता सुशील मोदी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश की जनता पीएम के साथ है. लेफ्ट के भारत बंद और कांग्रेस तथा अन्य दलों के आक्रोश मार्च को लोगों ने नकार दिया है. साथ ही उन्होंने नोट बंदी के बाद बैको के स्तर पर हो रही धांधली की निगरानी के लिए मुख्य सचिव के नेतृत्व में टास्क फोर्स बनाने की मांग भी सीएम से की.

धरने पर बैठे विनय बिहारी

उधर ‘हम’ विधायक विनय बिहारी सदन में ही धरने पर बैठ गए. दरअसल वो खाकी पेंट में ही सदन पहुंच गए थे जिस वजह से मार्शल ने उन्हें कार्यवाही में भाग नहीं लेने दिया. इसके बाद वो सदन के बाहर लॉन में ही धरने पर बैठ गए. धरने पर बैठे बिहारी का विपक्षी भाजपा सदस्यों ने भी समर्थन किया. विधायक करीब महीने भर से अपने क्षेत्र की मांगों को लेकर विरोधस्वरुप कपड़े नहीं पहन रहे हैं. उन्होंने बताया कि अपने क्षेत्र में सड़क नहीं बनाने के विरोध में वो अपना कुर्ता केंद्र सरकार को और पायजामा राज्य सरकार को दे चुके हैं.

मंगलवार को पेश होंगे कई विधेयक

आपको बता दें कि बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र शनिवार को शुरू हुआ था. उस दिन दिवंगत सदस्यों और कानपूर ट्रेन हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी गयी थी. अब मंगलवार को सदन की कार्यवाही सुचारू रूप से चलने की उम्मीद है. इस दिन कई महत्वपूर्ण विधेयक भी पेश किये जाने की संभावना है.

यह भी पढ़ें :

नीतीश को डर सता रहा है, लालू कहीं जदयू को न निगल जाएं
बेअसर बंद, भाजपा ने बांटे फूल
बिहार में भारत बंद का मिला-जुला असर, जगह-जगह ट्रेनें रोकी गई