क्या आप जानते हैं, नीतीश कुमार के पास पटना में न अपना घर है – न जमीन, देखें 15 दुर्लभ तस्वीरें

– अभिषेक आनंद –

पटना : बिहार की सियासत में इन दिनों क्या चल रहा है, दुनिया देख रही है. पॉलिटिक्स डर्टी होती जा रही है. बिहार के लोगों को कहीं से पॉजिटिव एनर्जी मिलती नहीं दिखती. सभी के सभी गूगल बाबा से लेकर व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी और फेसबुक विद्यापीठ में रोज कुछ न कुछ खोजते और वायरल करते दिखते हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से जुड़ते सारे की-वर्ड को लेकर भी गूगल में इन दिनों बहुत सर्च हो रहे हैं.

दो दिनों पहले व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी में नीतीश कुमार से जुड़ी एक ऐसी तस्वीर वायरल की जा रही थी, मानो फोटो के पीछे कोई बहुत बड़ा सीक्रेट छुपा हो. लेकिन सच यह है कि इस फोटो में कुछ भी सीक्रेट नहीं है. नीतीश कुमार की यह दुर्लभ तस्वीर है, जिसमें वह अपनी पत्नी मंजू सिन्हा (अब स्मृतिशेष) के साथ ताजमहल में दिख रहे हैं. ये रहा वो फोटो –

पत्नी मंजू सिन्हा के साथ नीतीश कुमार

गूगल के सर्च में नीतीश कुमार द्वारा 31 दिसम्बर 2016 को घोषित संपत्ति का ब्यौरा भी मिलता है. यह बहुत कुछ बताता है. बिहार के नेताओं के पास कहां-कितनी संपत्ति है, रोज खुलासे होते रहते हैं. पर, नीतीश कुमार के बारे में सच यह है कि मुख्यमंत्री आवास को छोड़ दें तो रहने के लिए उनके नाम पटना में एक भी घर/फ्लैट नहीं है. जिस विधायक कॉलोनी में छोटे-मोटे विधायकों ने भी मकान बना लिया, वहां भी नीतीश कुमार के नाम कोई घर नहीं है. अभी चाह भी लें, तो पटना में घर बनाने को जमीन लेनी होगी. हां, दिल्ली के द्वारका के संसद विहार कोआपरेटिव सोसाइटी में इनके नाम 1000 स्क्वायर फीट का छोटा सा फ्लैट जरुर है. अब आप देखें नीतीश कुमार का पुश्तैनी मकान जो नालंदा जिले के हरनौत के कल्याणबिगहा में स्थित है. तस्वीर कुछ साल पुरानी है, फिर भी बिहार के मुख्यमंत्री के पैतृक घर की स्थिति को बयां जरुर करती है.

नालंदा जिला के कल्याणबिगहा के अपने पैतृक घर में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

आगे की तस्वीर सचमुच बहुत पुरानी है. जेपी के आंदोलन के दिनों की. देखिये, नीतीश कुमार तब कैसे लगते थे. यह तस्वीर पटना एयरपोर्ट पर ली गई थी.

nitish7
पटना एयरपोर्ट पर जेपी को रिसीव करते नीतीश कुमार

आगे जो तस्वीर आप देखने जा रहे हैं, वह भी बहुत रेयर है. नीतीश कुमार 1974 के आंदोलन के दिनों में लोकनायक जयप्रकाश नारायण के साथ दिख रहे हैं.

nitish10
1974 के आंदोलन के दिनों में जयप्रकाश नारायण के साथ नीतीश कुमार

1990 में जब लालू प्रसाद बिहार के मुख्यमंत्री बने थे, तब नीतीश कुमार साथ में ही थे. राजनीतिक रगड़ा तो बाद में हुआ. तब लालू प्रसाद जब भी पटना के डाकबंगला चौराहा से गुजरते थे, तो पान खाने को उनका काफिला जानी-पहचानी दुकान पर ठहरता था. ऐसे ही एक क्षण में नीतीश कुमार भी साथ थे और यह तस्वीर अब आपके सामने है.

nitish11
पान की दुकान पर लालू प्रसाद के साथ नीतीश कुमार

बिहार की राजनीति में लालू प्रसाद को शिकस्त देने के लिए नीतीश कुमार ने बहुत जल्द NDA से नाता जोड़ लिया था. यह तस्वीर उन्हीं दिनों के प्रारंभ की है. तस्वीर देखें, तब बिहार में NDA की बैठक में सबसे आगे कैलाशपति मिश्र बैठा करते थे. शिबू सोरेन भी बैठे हैं, नीतीश कुमार तो दिख ही रहे हैं. यह भी देख लीजिये कि तब रामविलास पासवान कहां बैठते थे और सुशील कुमार मोदी व नन्दकिशोर यादव कैसे दिखते थे.

nitish6
NDA के प्रारंभिक दिनों में भाजपा नेताओं के साथ नीतीश कुमार

बिहार की सत्ता से लालू प्रसाद को बेदखल करने का नीतीश कुमार का संघर्ष तो बहुत लंबा चला, लेकिन इसके पहले उन्हें केंद्र में मंत्री बनने का अवसर जरुर प्राप्त हो गया. आगे जो तस्वीर आप देख रहे हैं, वह केंद्र में अपने मंत्रालय का पदभार ग्रहण करते नीतीश कुमार दिख रहे हैं.

nitish13
केंद्र में मंत्री बनने के बाद पदभार ग्रहण करते नीतीश कुमार

आपकी जानकारी के लिए नीतीश कुमार आज भी पटना के बख्तियारपुर शहर के वोटर हैं. वोट देने वे बख्तियारपुर ही जाते हैं. यह तस्वीर वोट देने के पहले पंक्ति में लगे नीतीश कुमार की है.

nitish4
बख्तियारपुर में अपने मतदान केंद्र पर वोट डालने के लिए पंक्ति में नीतीश कुमार

बिहार की सत्ता से लालू यादव को बेदखल करने की लड़ाई में चेहरा निश्चित तौर पर नीतीश कुमार ही थे. लेकिन यह लड़ाई जॉर्ज फर्नांडिस, शरद यादव और दिग्विजय सिंह जैसे नेताओं के बिना तब संभव नहीं थी. दिग्विजय सिंह (बांका) अब नहीं हैं. जॉर्ज फर्नांडिस बेहद बीमार रहते हैं, यादाश्त खो चुके हैं, शरद यादव की राह जुदा है. आगे की तस्वीर 2005 की मालूम होती है.

nitish3
2005 में सत्ता संभालने की मंत्रणा करते नीतीश कुमार

सत्ता संघर्ष में बिहार को विजय करने के बाद नीतीश कुमार सबसे पहले आशीर्वाद लेने को अपनी माता परमेश्वरी देवी के पास बख्तियारपुर पहुंचे थे.

nitish1
मां का आशीर्वाद लेते नीतीश कुमार

2007 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पत्नी मंजू सिन्हा का निधन नई दिल्ली में लंबी बीमारी के बाद हो गया. तस्वीर में आप दुखी नीतीश कुमार को पुत्र निशांत के साथ अपनी पत्नी के शव को कंधा देते देख सकते हैं.

nitish12
पत्नी मंजू सिन्हा के शव को कंधा देते नीतीश कुमार

नीतीश कुमार भाजपा के साथ बिहार की सत्ता में थे, लेकिन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की रीत-नीत उन्हें पसंद नहीं थी. कह सकते हैं, तब चिढ़ थी. उसी दौर में पंजाब में NDA की एक सभा थी. नरेंद्र मोदी आगे की राजनीति कर रहे थे. चतुराई से पहले अगल-बगल बैठे सुषमा स्वराज और नीतीश कुमार से मिले. फिर हाथ ऊपर कर तस्वीर खिंच गई. इस तस्वीर ने देश की राजनीति में बवाल खड़ा कर दिया. अब जुलाई 2017 में जब नीतीश कुमार फिर से भाजपा के संग हो गए हैं, उसके पहले तक इस तस्वीर से वह हमेशा गुस्सा रहे हैं. भोज भी कैंसिल हुई थी.

nitish16
नरेंद्र मोदी के साथ वह तस्वीर, जिसने देश भर में हंगामा खड़ा कर दिया था

2014 में नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने. 2015 में बिहार विधानसभा के चुनाव में भाजपा को शिकस्त देने के लिए नीतीश कुमार और लालू यादव फिर से एक हो गए. कांग्रेस भी साथ आई. परिणाम भाजपा हार गई. दोनों एक बार फिर बड़े भाई-छोटे भाई बने.

NITISH19
लालू यादव के साथ नीतीश कुमार

2017 के जनवरी में गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाशोत्सव में भाग लेने को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना आये. गांधी मैदान में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लंबी गुफ्तगू हुई. लोग कहते हैं कि आगे की राह यहीं तय हो गई. इस समारोह में स्टेज पर लालू प्रसाद को जगह नहीं मिली थी. वे नीचे बैठे थे.

NITISH17
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नीतीश कुमार

बात बन गई थी. 26 जुलाई 2017 को नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया. राजद-कांग्रेस के साथ का महागठबंधन टूटा. भाजपा फिर से साथ आई. 27 जुलाई 2017 को नीतीश कुमार ने फिर से भाजपा के संग मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. सुशील कुमार मोदी डिप्टी सीएम बने.

NITISH20
इस्तीफा देने जाते नीतीश कुमार

(सभी तस्वीरें इंटरनेट के विभिन्न स्रोतों से साभार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*