सोनिया से नहीं मिले, अब मोदी से मिलेंगे नीतीश कुमार, साथ में लंच भी !

NITISH-MODI

नई दिल्ली : आयोजन दूसरा है. लेकिन शुक्रवार की शाम टाइम्स ऑफ़ इंडिया के एक ट्वीट ने दिल्ली से लेकर पटना तक की सियासी हलचल तेज कर दी है. आज शुक्रवार को कांग्रेस प्रेसीडेंट सोनिया गांधी ने राष्ट्रपति चुनाव पर विपक्ष की रणनीति तय करने को देश भर के विपक्ष के नेताओं को बुलाया था. पर इस बैठक में यह कह कर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल होने को नहीं आये कि वे इतने शोर्ट नोटिस पर दिल्ली नहीं पहुंच सकते हैं. शरद यादव को बैठक में शामिल होने को अधिकृत किया गया.

बिहार में अभी जो कुछ चल रहा है, उसमें नीतीश कुमार का आज दिल्ली नहीं आना राजनीतिक गलियारे में महज सहज नहीं माना गया. विपक्षी एका के लिए सबसे अधिक प्रयास कर रहे लालू प्रसाद ने कोई प्रतिक्रिया तो नहीं दी, लेकिन उनके मन की बात सभी जान-समझ रहे हैं. लालू प्रसाद दिल्ली आये हुए हैं. राष्ट्रपति चुनाव की रणनीति तय करने के साथ उन्होंने पटना के गांधी मैदान में 27 अगस्त को होनेवाली महारैली के लिए भी सबों को आमंत्रित किया है.

NITISH-MODI

दिल्ली की इस सियासी हलचल के बीच अभी शाम को यह खबर फ़्लैश हुई कि नीतीश कुमार कल शनिवार को आ रहे हैं. टाइम्स ऑफ़ इंडिया के ट्वीट ने पॉलिटिकल कॉरिडोर में चिंगारी और बढ़ा दी. इस ट्वीट में इस बात की संभावना जताई गयी है कि नीतीश कुमार शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ लंच पर होंगे.

दरअसल नरेंद्र मोदी ने लंच का आयोजन मॉरीशस के प्राइम मिनिस्टर के सम्मान में किया है. प्राइम मिनिस्टर इंडिया आये हुए हैं. सबों को पता है कि मॉरीशस का बिहार कनेक्शन मूल में है. मॉरीशस की स्थापना ही बिहार से गए लोगों ने की थी. बताया जा रहा है कि मॉरीशस के प्राइम मिनिस्टर नीतीश कुमार से मिलने को इच्छुक थे. नरेंद्र मोदी के लंच में मुलाक़ात होगी. पर यह लंच अभी से राजनीतिक हंगामा भी खड़ा किये हुए है. वजह यह कि हालत ऐसे हैं कि कारण जो भी हों, जब भी नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी मिलेंगे, बात दूर तलक तो जायेगी ही. वैसे इस राजनीतिक तूफ़ान को जदयू के सांसद पवन कुमार वर्मा यह कहकर रोकने की कोशिश कर रहे हैं कि कुछ दिनों पहले ही तो नीतीश कुमार ने कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गांधी से मुलाकात की थी.

इसे भी पढ़ें –
पीएम के 1.65 लाख करोड़ के पैकेज से ही बिहार में हो रहा है विकास – सुशील मोदी
सोनिया के बुलावे को नीतीश की ‘ना’, उठने लगे सियासी सवाल
सोनिया-राहुल का रंजीत पर बड़ा भरोसा, वाराणसी में मोदी गवर्नमेंट की ‘पोल खोल’ का जिम्मा

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*