टूट का डर, बिहार कांग्रेस के ये 10 विधायक अभी हो गये हैं खास

पटना : बिहार में कांग्रेस के विधायक नहीं टूटेंगे, गारंटी कोई नहीं दे सकता. कुल 27 विधायक हैं. अपने विधायकों को लेकर कांग्रेस पटना से अधिक परेशान दिल्‍ली में है. बिहार में किस पर पूर्ण भरोसा करें, पार्टी के केन्‍द्रीय नेतृत्‍व को सोचना पड़ रहा है. हालांकि प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष अशोक चौधरी बार-बार कह रहे हैं कि कांग्रेस के विधायक अटूट हैं, पर किसी को भरोसा नहीं हो रहा.

टूट की खबरों के बीच कांग्रेस के 27 विधायकों में 10 विधायकों पर अभी विशेष रुप से नजर रखी जा रही है. बात शुरु हुई थी मंत्री ललन सिंह से कांग्रेस के वरिष्‍ठ विधायक सदानंद सिह से मुलाकात को लेकर. लेकिन इस मुलाकात के बारे में सदानंद सिंह ने पार्टी नेतृत्‍व के बारे में अपना पक्ष रख दिया है. सदानंद सिंह का कांग्रेस से बहुत पुराना रिश्‍ता है. अच्‍छे-बुरे दिनों में साथ रहे हैं.

सदानंद सिंह के बाद कांग्रेस अपने एक-एक विधायक को टटोल रही है. खुद कांग्रेस के बिहार प्रभारी सीपी जोशी भी चिंतित हैं. गोविंदपुर की विधायक पूर्णिमा यादव, भोरे के विधायक अनिल कुमार और मनिहारी के विधायक मनोहर प्रसाद सिंह पर विशेष नजर इसलिए है, क्‍योंकि इनकी पृष्‍ठभूमि जदयू से जुड़ी है. पूर्णिमा के पति कौशल यादव जदयू के नेता और पूर्व विधायक हैं. भोरे वाले अनिल कुमार का पहले जदयू से गहरा नाता रहा है. वे बिहार पुलिस के डीजी स्‍तर के अधिकारी सुनील कुमार के बड़े भाई हैं. मनिहारी वाले मनोहर प्रसाद सिंह का कनेक्‍शन भी जदयू से है.

विक्रम के विधायक सिद्धार्थ, बरबीघा के विधायक सुदर्शन कुमार और भागलपुर के विधायक अजीत शर्मा पर खास नजर इस कारण है कि जदयू-भाजपा के गठबंधन बनने के बाद यह कबूला जाने लगा है कि भूमिहार वोट आने वाले चुनाव में इधर ही रहेंगे. फिर इन तीनों का क्षेत्र भूमिहार बाहुल्‍य अथवा निर्णायक भूमिका में है. सो, कई-कई तरीके की बातें चल रही हैं. लेकिन खुलकर कोई नहीं बोल रहा.

नेतृत्‍व ने अब नरकटियागंज के विधायक विनय वर्मा, जमुई के सिकंदरा के विधायक बंटी चौधरी और सीतामढ़ी के रीगा के विधायक अमित कुमार का भी विशेष ख्‍याल रखना प्रारंभ किया है. नजर में बिहार विधान परिषद के सदस्‍य राजेश राम भी हैं.

यह भी पढ़ें –

आरसीपी-भूपेन्‍द्र यादव मंत्री बन रहे हैं, राधामोहन सिंह को लेकर फिर से चर्चा है !

‘जारी रहेगा अल्पसंख्यक कल्याण पर फोकस, कार्यशैली में नहीं होगा बदलाव’

कटिहार के हैं ‘मौज’ मनाने वाले बिहारी IAS, लाइव सिटीज ने तह तक की है पड़ताल

About Abhishek Anand 120 Articles
Abhishek Anand

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*