भाजपा में शामिल होते ही नरेश अग्रवाल को मांगनी पड़ गई माफी, विरोध में उतर आए सब

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः भाजपा में इंट्री के साथ ही नरेश अग्रवाल विवादों में फंस गए हैं. उन्होंने अपने बयान पर खेद जताया है. दरअसल  मंगलवार सुबह मीडिया से बात करते हुए नरेश अग्रवाल ने कहा कि अगर मेरी किसी बात से से किसी को ठेस पहुंची है तो मैं खेद व्यक्त करता हूं. इस दौरान जब पत्रकार ने पूछा कि क्या आप बयान पर माफी मांगेंगे तो उन्होंने कहा कि क्या आप खेद शब्द का मतलब समझते हैं. नरेश अग्रवाल ने कहा कि मैं भी हिंदू हूं और कोई भी हिंदू राम मंदिर बनने का विरोध नहीं करता है. मैं नई पारी की शुरुआत कर रहा हूं किसी भी तरह के विवाद में नहीं पड़ना चाहता हूं. चारा घोटालाः CBI कोर्ट ने एक और मामले में बिहार के चीफ सेक्रेट्री अंजनी कुमार को बनाया आरोपी

आपको बता दें कि सोमवार को समाजवादी पार्टी को छोड़कर नरेश अग्रवाल बीजेपी में शामिल हुए. इसी दौरान उन्होंने कहा कि डांस करने वालों की वजह से सपा में मेरा राज्यसभा का टिकट काटा गया. उनके इस बयान से पार्टी के लिए कुछ देर के लिए असहज स्थिति हो गई. नरेश अग्रवाल के इस बयान के बाद ना सिर्फ विपक्षी पार्टियों ने बल्कि बीजेपी की ही कई बड़ी महिला नेताओं ने अपना विरोध जताया.

साभार ANI

बयान के कुछ देर बाद ही विदेश मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज ने नरेश अग्रवाल के बयान पर कड़ा ऐतराज जताया था. सुषमा स्वराज ने ट्वीट करते हुए नरेश अग्रवाल का बीजेपी में स्वागत किया, लेकिन उन्होंने जया बच्चन पर की गई उनकी टिप्पणी को अस्वीकार्य और गलत बताया है. सुषमा स्वराज के बाद स्मृति ईरानी और रूपा गांगुली ने भी नरेश अग्रवाल के बयान पर विरोध दर्ज कराया है.

उधर  उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी नरेश अग्रवाल के बयान की निंदा की है और बीजेपी से कड़ी कार्रवाई करने की अपील की. मंगलवार सुबह अखिलेश यादव ने ट्वीट किया कि श्रीमती जया बच्चन जी पर की गई अभद्र टिप्पणी के लिए हम भाजपा के श्री नरेश अग्रवाल के बयान की कड़ी निंदा करते है. ये फिल्म जगत के साथ ही भारत की हर महिला का भी अपमान है. भाजपा अगर सच में नारी का सम्मान करती है तो तत्काल उनके ख़िलाफ कदम उठाये. महिला आयोग को भी कार्रवाई करनी चाहिए.

About Md. Saheb Ali 3818 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*