रेलवे होटल टेंडर घोटाला : लालू, राबड़ी व तेजस्वी के खिलाफ CBI ने दायर की चार्जशीट

लालू, राबड़ी व तेजस्वी का फाइल फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : लालू फैमिली का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है. रेलवे होटल टेंडर घोटाले को लेकर दिल्ली से बड़ी खबर आ रही है. रेलवे होटल टेंडर घोटाला मामले में सीबीआई ने अपनी कार्रवाई और तेज कर दी है. सीबीआई ने लालू फैमिली पर शिकंजा कसते हुए लालू प्रसाद, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और छोटे बेटे तेजस्वी यादव के खिलाफ सोमवार को  यादव की गिरफ्तारी पर तलवार लटकने लगी है. बता दें कि इसी माह 10 अप्रैल को सीबीआई की टीम राबड़ी आवास पहुंची थी और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से पूछताछ की थी.

दिल्ली से आ रही खबर के अनुसार सीबीआई ने रेलवे टेंडर घोटाला मामले में लालू फैमिली पर और अधिक शिकंजा कस दिया है. सीबीआई ने इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ चार्जशीट दायर कर दी है. बाकी अभियुक्तों के खिलाफ भी चार्जशीट दायर की गयी है. सूत्रों की मानें तो कुल 14 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की गयी है.

इससे उनलोगों की परेशानी बढ़ती नजर आ रही है. बता दें कि पिछले साल रेलवे टेंडर घोटाले को लेकर सीबीआई ने प्राथमिकी दर्ज की थी. इस मामले में लालू प्रसाद, राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, पूर्व सांसद प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता के अलावा पीके गोयल (तत्कालीन एमडी, आइआरसीटीसी), विनय कोचर और विजय कोचर (सुजाता होटल एवं चाणक्य होटल के मालिक) प्रमुख आरोपियों में शामिल हैं.

रेलवे होटल टेंडर घोटाला मामले में दर्ज प्राथमिकी आरोप लगाया गया है कि मई 2004 में लालू प्रसाद ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए रेलवे की पुरी और रांची स्थित रेल रत्न होटलों का आवंटन कोचर बंधु की कंपनी सुजाता होटल को कर दिया था. इसके बदले में मिले करोड़ों रुपये की जमीन और जायदाद को शेल कंपनी लारा प्राइवेट लिमिटेड (पहले इसका नाम डिलाइट मार्केटिंग था) के नाम पर ट्रांसफर किये गये थे. इस कंपनी की निदेशक राबड़ी देवी और तेजस्वी प्रसाद हैं. इस वजह सीबीआई की जांच की जद में ये भी आ गये हैं.

सुरक्षा विवाद सुलझा : मान गईं राबड़ी देवी, पूछा- क्या सीएम को अंधेरे में रखकर हुआ था एक्शन

बताया जा रहा है कि लालू प्रसाद, राबड़ी देवी व तेजस्वी यादव के खिलाफ चार्जशीट दायर करने के बाद संकट और अधिक बढ़ गया है. इसके बाद से खासकर राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गयी है. दरअसल लालू प्रसाद चारा घोटाला मामले में पहले से ही जेल में बंद हैं और उनका इलाज दिल्ली के एम्स में चल रहा है. वहीं अभी राबड़ी देवी और तेजस्वी अभी बाहर में हैं. 10 अप्रैल को अचानक तेजस्वी यादव से लगभग 4 घंटे तक हुई पूछताछ को इसी चार्जशीट से जोड़ कर देखा जा रहा है.

बोले शिवानंद तिवारी : टारगेट किया जा रहा है लालू परिवार को, तमाशा कर रहे हैं नीतीश कुमार

गौरतलब है कि इसी मामले में पिछले साल 13 नवंबर को पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव से प्रवर्तन निदेशालय (ED) के कार्यालय में लंबी पूछताछ हुई थी. करीब 9 घंटे तक चली इस पूछताछ में तेजस्वी से 100 सवाल किये गए थे. तेजस्वी के बयानों को रिकॉर्ड भी किया गया था. तेजस्वी पिछले कई सम्मनों के बाद 13 नवंबर को पेश हुए थे. इससे पहले 10 अक्टूबर को भी तेजस्वी से दिल्ली के ईडी मुख्यालय में पूछताछ की गयी थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*