‘घचपच और गड़बड़ करने के लिए नहीं बना था महागठबंधन’

पटना में जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती के मौके पर सीएम नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम सुशील मोदी व अन्य.

लाइव सिटीज पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फिर कहा कि बिहार के जननायक रहे पूर्व सीएम कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न मिले. इसके लिए केंद्र को वे दोबारा प्रस्ताव भेजेंगे. उन्होंने कहा कि कर्पूरी ठाकुर लोगों के दिलों में बसते थे. उनकी सादगी बिहार ही नहीं पूरे देश के लिए मिसाल है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बुधवार को पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में जदयू अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ की ओर से आयोजित जननायक कर्पूरी ठाकुर जयंती समारोह में पहुंचे हुए थे. इसके पहले उन्होंने कर्पूरी ठाकुर की आदमकद प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किया. इसके साथ ही नीतीश कुमार ने महागठबंधन पर भी कमेंट किया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ ही उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी जननायक कर्पूरी ठाकुर को श्रद्धांजलि दी.

वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित जननायक कर्पूरी ठाकुर जयंती समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया. मौके पर नीतीश कुमार को माला व पाग पहनाकर एवं अंगवस्त्र व मिथिला पेंटिंग भेंटकर उनका भव्य स्वागत किया गया. इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री को मछली की प्रतिमा और भगवान बुद्ध की तस्वीर भी भेंट की गयी. कार्यक्रम की अध्यक्षता अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मेश्वर राय ने की.

समोराह में मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले प्रदेश स्तर पर कर्पूरी ठाकुर का जयंती समारोह मनाया जाता है. लेकिन इस वर्ष से बिहार के सभी जिलों में जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती मनाई जा रही है. उन्होंने कहा कि हम जो भी काम करते हैं, उसके प्रेरणास्रोत जननायक कर्पूरी ठाकुर रहे हैं. बहुत लोग अब जयंती मनाने लगे हैं, यह अच्छी बात है, इसमें किसी को कोई ऐतराज भी नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि जननायक जब इस धरती से विदा हुए तभी से ही हमलोग इस कार्यक्रम को करते आ रहे हैं और यह सिर्फ औपचारिकता मात्र नहीं है, बल्कि उनके काम और उनके व्यक्तित्व को लोग समझें, जानें, इसका प्रयास किया जाता है. आनेवाली पीढ़ी भी जननायक कर्पूरी ठाकुर के व्यक्तित्व और कृतित्व से अवगत हो सके, इसके लिए निरंतर ऐसे कार्यक्रम आयोजित होते रहे हैं. अगली बार से इसका आयोजन बापू सभागार में होगा.

कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

नीतीश कुमार ने कहा कि 1977 में जननायक कर्पूरी ठाकुर मुख्यमंत्री थे और उस समय मुंगेरीलाल कमीशन बनाकर उन्होंने आरक्षण लागू किया था, जिसके कारण उन्हें कार्यकाल भी पूरा करने नहीं दिया गया. मुख्यमंत्री ने कहा कि बीपी सिंह जब प्रधानमंत्री थे, उस समय मंडल कमीशन की सिफारिशें लागू की गयी थीं. उन्होंने कहा कि कर्पूरी ठाकुर ने जिस तरह से बिहार में आरक्षण लागू किया था, अब केंद्र में जो सरकार है, ऐसे में मुझे पूरा भरोसा है कि आरक्षण का प्रावधान पूरे देश में लागू होगा. आरक्षण प्रेरक की भूमिका निभाता है, जिसके चलते अति पिछड़ों में शिक्षा के प्रति प्रेरणा आयी है.

नीतीश कुमार ने कहा कि न्यायिक निर्णय पर आज तक हमने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और हम हमेशा मर्यादा में चलते हैं. न्याय के साथ विकास से कोई समझौता नहीं होगा. बिहार में चाहे कानून का राज कायम करने की बात हो या बुनियादी ढांचे का विकास, पुल-पुलिया निर्माण की बात हो या सड़क निर्माण, हर क्षेत्र में हमने विकास का काम किया है. इसके अलावा समाज कल्याण का काम भी किया गया है. उन्होंने कहा कि कौन तबका है जिसके लिए विकास नहीं किया ? अंतिम पायदान पर खड़े हर एक व्यक्ति के लिए हमने काम किया है और यह सब काम वोट के चक्कर में नहीं किया गया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कुमार के साथ उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी

मुख्यमंत्री ने कहा कि 1977 और 1980 में हम चुनाव हारे थे, उसके बाद से चुनाव जीतते रहे हैं. उन्होंने कहा कि कभी राजनीति वोट के लिए नहीं करनी चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों की आदत है कि जब उन्हें सत्ता हासिल होती है, तब वह धनार्जन करते हैं और ताकत अर्जित करते हैं, लेकिन हमारा मानना है कि जब जनता हमें मौका देती है तो हमें सेवा करनी चाहिए और हम लोगों की सेवा निरंतर करने में जुटे हैं. उन्होंने कहा कि मेरे ऊपर जो कमेंट करना है, लोग करते रहें, पत्थर की बौछार करते रहें लेकिन हम अपना काम निरंतर करते रहेंगे, क्योंकि हमारा मकसद है न्याय के साथ विकास. सवालिया लहजे में मुख्यमंत्री ने महागठबंधन पर भी बोले. उन्होंने कहा कि महागठबंधन घचपच और गड़बड़ करने के लिए नहीं बना था. महागठबंधन जिसके लिए बना था, वह काम हम उस समय भी कर रहे थे और आज भी कर रहे हैं. एक सीमा के आगे तक हम कंप्रोमाइज नहीं कर सकते. उन्होंने 21 जनवरी को आयोजित सफल मानव श्रृंखला के लिए लोगों को बधाई दी.

समारोह को जदयू प्रदेश अध्यक्ष सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह, ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह, खाद्य उपभोक्ता संरक्षण मंत्री मदन सहनी, पंचायती राज मंत्री कपिलदेव कामत, ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार, विधायक श्याम रजक ने भी संबोधित किया. वहीं विधान पार्षद संजय सिंह उर्फ गाँधी जी, विधान पार्षद रणवीर नंदन, विधान पार्षद चन्द्रेश्वर प्रसाद चन्द्रवंशी, जदयू प्रदेश प्रवक्ता अजय आलोक, जदयू प्रदेश प्रवक्ता अंजुम आरा, जदयू प्रदेश प्रवक्ता सुहेली मेहता समेत अनेक लोग उपस्थित थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*