कुशवाहा के दोनों विधायक हुए बागी, ललन ने सुधांशु के लिए मांगा मंत्री पद

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : रालोसपा एनडीए के बाहर हो चुकी है. पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने रालोसपा के एनडीए से अलग होने की घोषणा कर दी है. वहीं उन्होंने नरेन्द्र मोदी सरकार की कैबिनेट से भी इस्तीफा दे दिया है. लेकिन अब रालोसपा के लिए उसके बागी नेता गले की हड्डी बन गए हैं. पार्टी के एक विधायक ललन पासवान ने रालोसपा पर अपना दावा ठोक दिया है. वहीं उन्होंने रालोसपा से दूसरे विधायक सुधाशु शेखर के लिए नीतीश सरकार में मंत्री  पद की मांग की है.

‘जदयू में थे तो नीतीश कुमार थे बड़े भाई’

मीडिया से बात करते हुए रालोसपा से विधायक ललन पासवान ने उपेन्द्र कुशवाहा के इस्तीफे को लेकर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उनकी रालोसपा ही असली रालोसपा है. उन्होंने रालोसपा के प्रवक्ता के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि किसे संविधान का ज्ञान नहीं है ये पता चल जाएगा. ललन ने सवाल किया की क्या वे कभी मुखिया का चुनाव लड़े हैं.

उन्होंने कुशवाहा पर हमला करते हुए कहा की उनपर 420 के फर्जीवाड़े का मुकदमा होगा. उन्होंने आगे कहा कि जब जदयू में थे तो नीतीश कुमार बड़े भाई थे लेकिन अब दुश्मन लग रहे हैं. कुशवाहा के उस बयान पर भी उन्होने हमला बोला जिसमें उन्होंने 2014 के चुनाव में नरेंन्द्र मोदी के नाम को पीएम पद के लिए आगे बढ़ाने का दावा किया था.

सुशांशु को मिले नीतीश कैबिनेट में जगह

उन्होंने कहा कि अगर जब माल मारना होता है तो पीएम मोदी के साथ होते हैं और अब जब समय निकल गया तो कह रहे हैं समाजिक न्याय में हिस्सेदारी नहीं मिली. ललन पासवान ने सुधांशु शेंखर के लिए मंत्री पद की मांग करते हुए कहा कि 2014 चुनाव में आरएलएसपी की हिस्सेदारी थी. वही बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद जब मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ तो उसमें हमारा हिस्सा था. और मैं एनडीए के सभी बड़े नेताओं से सुधांशु शेखर को मंत्रिमंडल में जगह देने की मांग कर रहा हूं.

वही सुधांशु शेंखर ने कहा कि हम लोग एनडीए का हिस्सा है और मंत्रिमंडल में हमारा भी हिस्सा बनता है. उन्होंने भी आरएलएसपी के प्रवक्ता के संविधान का ज्ञान न होने की बात को लेकर कहा कि यह बात जनता जानती है कि किसे संविधान का ज्ञान नहीं है. बताते चले कि रालोसपा के एनडीए से अलग होने के साथ ही रालोसपा में भी दो फाड़ हो चुकी है. ललन पासवान और सुधांशु शेखर सहीत भगवान सिंह कुशवाहा ने भी उपेंन्द्र कशवाहा से दूरी बना ली है. ऐसी जानकारी हे कि ये नेता जदयू में शामिल हो सकते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*