MGCU के वीसी अरविंद अग्रवाल का इस्तीफा मंजूर, राष्ट्रपति ने लगाई स्वीकृति की मुहर

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय (महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी) को लेकर बड़ी खबर आ रही है. मिल रही जानकारी के अनुसार महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय, मोतिहारी के कुलपति अरविंद कुमार अग्रवाल का इस्तीफा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूर कर लिया है. फर्जी डिग्री का आरोप लगने के बाद वीसी ने अपने पद से इस्तीफा दिया था. उनके इस्तीफे को मानव संसाधन मंत्रालय ने राष्ट्रपति के पास भेज दिया था.

दरअसल बिहार के महात्मा केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति अरविंद कुमार अग्रवाल शुरू से ही सवालों के घेरे में थे. उन पर आरोप है कि कुलपति पद पाने के लिए उन्होंने अपने अकादमिक परिचय पत्र में जालसाजी की है. इसके बाद मामला काफी आगे बढ़ गया. वे अपने ही विभाग के निशाने पर आ गये. इसके कारण उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था.

बताया जाता है कि जालसाजी मामले को मानव संसाधन विकास विभाग ने काफी गंभीरता से लिया. इसके बाद उन पर इस्तीफा देने का प्रेशर बना. तब उन्होंने 31 अक्टूबर को अपना इस्तीफा दे दिया. इसके बाद मानव संसाधन मंत्रालय ने इस्तीफे पर अंतिम मुहर के लिए उसे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेज दिया.

गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद महात्मा गांधी विश्वविद्यालय के विजिटर भी हैं. ऐसे में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास अंतिम स्वीकृति के लिए अरविंद अग्रवाल का इस्तीफा भेजा गया. सबसे बड़ी बात कि अरविंद अग्रवाल पर झूठ बोलने का भी आरोप है. आरोप है कि नौकरी पाने के लिए उन्होंने विदेश में शिक्षा हासिल करने की बात कही थी, जो पूरी तरह गलत है.

कहा जा रहा है कि अरविंद अग्रवाल ने जर्मनी के किसी संस्थान से पीएचडी नहीं की है. उनके बारे में कहा जा रहा है कि असल में वे राजस्थान विश्वविद्यालय से डिग्री ली है. हालांकि इस मामले में अरविंद अग्रवाल से जब मीडिया ने इस बारे में पूछा तो उन्होंने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया था. बहरहाल अरविंद अग्रवाल के इस्तीफे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपनी स्वीकृति की मुहर लगा दी.