पप्पू यादव को हो रही है लालू प्रसाद की चिंता, राष्ट्रपति को लेटर लिख कहा- उनकी रक्षा कीजिए

lalu prasad pappu yadav

लाइव सिटीज डेस्क : मधेपुरा सांसद पप्पू यादव ने आज राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के हेल्थ पर चिंता जताई है. इस संदर्भ में उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को खत लिखा है. इस लेटर में उन्होंने लालू प्रसाद के इलाज के लिए उचित व्यवस्था कराने की अपील की है. पप्पू यादव ने कहा है कि AIIMS के विशेषज्ञ डॉक्टर से लालू प्रसाद का इलाज करवाना चाहिए. साथ ही उन्होंने लालू प्रसाद को AIIMS से अचानक RIMS शिफ्ट किये जानें पर भी सवाल खड़े किये. पप्पू यादव ने इसमें राजनीतिक साजिश की आशंका जताई है. उन्होंने इस लेटर में लालू प्रसाद के कार्यकाल और उनके संघर्ष को भी खूब लिखा है.

आगे आप सांसद पप्पू यादव के पूरे लेटर को यहां पढ़िए

महोदय,
श्री लालू प्रसाद जी का राजनीतिक सफ़र काफी लम्बा रहा है | लालू यादव ने राजनीति की शुरूआत जयप्रकाश नारायण के जेपी आन्दोलन से की जब वे एक छात्र नेता थे और उस समय के राजनेता सत्येन्द्र नारायण सिन्हा के काफी करीबी रहे थे। 1977 में आपातकाल के पश्चात् हुए लोक सभा चुनाव में लालू यादव जीते और पहली बार 29 साल की उम्र में लोकसभा पहुँचे। 1980 से 1989 तक वे दो बार बिहार विधानसभा के सदस्य रहे और विपक्ष के नेता पद पर भी रहे। 1990 में वे बिहार के मुख्यमंत्री बने एवं 1995 में भी भारी बहुमत से विजयी रहे। जुलाई, 1997 में लालू प्रसाद यादव ने जनता दल से अलग होकर राष्ट्रीय जनता दल के नाम से नयी पार्टी बना ली। 2004 के लोकसभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव एक बार फिर “किंग मेकर” की भूमिका में आये और रेलमन्त्री बने। श्री यादव के कार्यकाल में ही दशकों से घाटे में चल रही रेल सेवा फिर से फायदे में आई।



भारत के सभी प्रमुख प्रबन्धन संस्थानों के साथ-साथ दुनिया भर के बिजनेस स्कूलों में लालू यादव के कुशल प्रबन्धन से हुआ भारतीय रेलवे का कायाकल्प एक शोध का विषय बन गया। जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे तब भारतीय रेल घाटे से निकल कर मुनाफे की ओर लौट आई। रेलवे की इस महत्वपूर्ण उपलब्धि के कारण कई मैनेजमेंट स्कूलों ने लालू प्रसाद के नेतृत्व की प्रशंसा करते हुए उन्हें हार्वर्ड, व्हार्टन और अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों के सैकईं विद्यार्थियों को सम्बोधत करने के लिए आमंत्रित किया। रेलवे के इस उपलब्धि का अवलोकन इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद के विद्यार्थियों द्वारा भी किया गया।

पटना में 9 मई को आएगी पप्पू यादव की ‘जेल’ बड़े-बड़े खुलासे पढ़ने के लिए रहें तैयार

महोदय श्री लालू प्रसाद जी का देश एवं समाज के लिए बहुत बड़ा योगदान रहा है, लेकिन जहाँ तक अदालत और कानून का सवाल है इस विषय पर मुझे कुछ भी नहीं कहना है. कानून अपना कार्य करे, लेकिन एक सजा प्राप्त आदमी की जिंदगी की रक्षा करना भी सरकार की जिम्मेदारी बनती है, इस सम्बन्ध में माननीय उच्चतम न्यायलय ने भी कहा है कि कैदी के जीवन की रक्षा करना सम्बंधित राज्य सरकार की जिम्मेदारी है | अभी श्री लालू प्रसाद यादव जी गंभीर बीमारी से ग्रसित है, मधुमेह, उच्चरक्तचाप, किडनी एवं हृदय रोग जैसे गंभीर बिमारी से पीड़ित है, जहाँ लगातार विशेषज्ञ चिकित्सक की निगरानी में होना चाहिये, विगत कुछ साल पहले ही इनकी बाईपास सर्जरी भी हुई है, लेकिन राजनीतिकरण के चलते इनकी जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है, जोकि मानवता के भी खिलाफ है ।

वीडियो में देखें-सुनें #पप्पूयादव के एक-एक शब्द, उन्होंने #लालूयादव के योगदान को गिनाया है . अभी हो रहे अमानवीय व्यवहार पर गुस्सा जाहिर किया है और ठीक से देखने को कहा है….

महोदय अभी श्री यादव जी का इलाज रांची के जिस अस्पताल में चल रहा है एवं जिस चिकित्सक के निगरानी में चल रहा उस चिकित्सक के बारे में कई बार समाचार पत्र में छप चुका है | श्री यादव जी का उचित ईलाज दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के विशेषज्ञ चिकित्सक के निगरानी में ही हो सकता है, लेकिन जिस तरह अचानक इन्हें दिल्ली से रांची भेजा गया, उसमें किसी साजिश  की बू नजर आती है, जिसकी जाँच आवश्यक है।
अतः उपरोक्त वर्णित तथ्यों एवं श्री लालू प्रसाद यादव जी के रानजीतिक सफ़र तथा देश एवं समाज के लिए दिए गए योगदान के मद्देनजर मेरा नम्र निवेदन है कि इनके ईलाज का उचित प्रबंध किया जाना चहिये एवं अविलंब इनका ईलाज दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के विशेषज्ञ चिकित्सक की निगरानी के करवाई जाए ताकि माननीय सर्वोच्च  न्यायालय के आदेश एवं मानवता की रक्षा भी हो सके।
सादर,
भवदीय
(राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव)