‘सुशील मोदी के रिश्तेदार फर्जी कंपनियों में शामिल, कर रहे मनी लॉंन्ड्रिंग का काम’

manoj-rjd

पटना (नियाज आलम) : बेनामी संपत्ति के कथित आरोपों में घिरे लालू परिवार का बचाव करने में बुधवार को राजद ने सुशील मोदी पर भी कई आरोप लगाए. बुधवार को राजद कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने  भाजपा नेता सुशील मोदी और उनके भाईयों पर अपनी कंपनियों के जरिये मनी लॉंन्ड्रिंग का आरोप लगाया.

मनोज झा ने इस बार आशियाना लैंड क्रॉफ्ट रियलिटी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में गोरखधंधे के मुद्दे को उठाकर सुशील मोदी पर हमला किया है. उन्होंने कहा कि इस कंपनी में सुशील मोदी के रिश्तेदारों की अहम भूमिका है. ये कंपनी खुद 501 करोड़ की कर्ज में है लेकिन इसके बावजूद 186 करोड़ रुपये दूसरे को कर्ज दे रही है. उन्होंने मनी लांड्रिंग का आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी बताये कि आखिर उनके रिश्तेदारों की ये कंपनी सिर्फ पैसों का ही लेन देन क्यों करती है जबकि इसका टर्न ओवर बिल्कुल नहीं है.

manoj-rjd

‘घर लिखवाया नहीं गया बल्कि गिफ्ट में दिया गया’

मनोज झा ने भाजपा नेता सुशील मोदी द्वारा पूर्व मंत्री प्रभुनाथ झा से मंत्री पद के बदले कथित तौर पर उनका घर लिखवाने के आरोप पर कहा कि यह बात खुद घर देने वाले ने ही कही है. लालू परिवार को ही संपत्ति गिफ्ट में क्यों मिलती है, इस पर झा ने कहा कि गिफ्ट तो दूसरों को भी मिल रहा है लेकिन यह इस मुल्क की विडंबना है कि दलित और पिछड़ों की राजनीति में जो भी आएगा, अगर उससे राजनौतिक तौर पर नहीं लड़ पाते हैं तो इस तरह की फरेब की राजनीति में फंसाया जाता है. लेकिन जनता फरेब की राजनीति को समझती है. उन्होंने कहा कि लालू परिवार पर इस तरह का हमला सामाजिक न्याय की राजनीति पर हमला है.

गौरतलब है कि सुशील मोदी ने लालू परिवार पर अपने आरोपों की ताजा कड़ी में पूर्व मंत्री रघुनाथ झा द्वारा मंत्री पद के बदले उनका गोपालगंज स्थित एक मकान राजद प्रमुख के नाम लिखने का आरोप लगाया था.

यह भी पढ़ें :
सुमो पर राबड़ी’वार’ : पहले मेरे भाइयों को बदनाम किया, अब बेटी-दामाद को..
बोले लालू- एक्शन प्लान की जरूरत, सिर्फ राष्ट्रवाद की बातों से काम नहीं चलेगा
घोटालेबाज के साथ सुशील मोदी का फोटो हो रहा वायरल, दो केंद्रीय मंत्री भी साथ में..

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*