SC-ST एक्ट पर सवर्णों के विरोध को जायज बताने वाली खबर को तेज प्रताप यादव ने बताया फर्जी

tej pratap yadav, bihar, तेजप्रताप यादव, बिहार , बिहार पॉलिटिक्स, नरेंद्र मोदी, बिहार, वैशाली, महुआ, Tea with Tej Pratap at Mahua
तेज प्रताप यादव (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े पुत्र व बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव टेंशन में आ गए हैं. वजह है कि उनके नाम से कथित तौर पर फर्जी खबर प्रकाशित की गई है. खबर थी कि तेज प्रताप यादव ने ऐसा बयान दिया कि ‘देश में सवर्ण समाज द्वारा एससी-एसटी एक्ट का विरोध जायज है.’ उत्तर प्रदेश में एक अखबार के हवाले से ऐसा कहा गया. अब तेज प्रताप यादव ने कहा है कि मैंने ऐसा कुछ कहा ही नहीं.

बता दें कि तेज प्रताप यादव अभी मथुरा में हैं. शुक्रवार 8 सितंबर की देर रात वे मथुरा में राधा-रानी के दरबार में पहुंचे थे. यहां उन्होंने अपने परिवार पर आए संकट को दूर करने के लिए पूजा-पाठ भी किया. इस दौरान तेज प्रताप के साथ राजद और समाजवादी पार्टी के भी कई नेता मौजूद थे. उसके बाद ही उत्तर प्रदेश से प्रकाशित प्रमुख अखबार ‘अमर उजाला’ ने खबर दी कि तेज प्रताप यादव ने कहा है कि सवर्णों द्वारा एससी एसटी एक्ट का विरोध जायज है.

मुजफ्फरपुर की SSP हरप्रीत कौर ने धो डाला पप्‍पू यादव को, बोली – आश्‍चर्य है ऐसे माननीय पर

उन्होंने कहा सवर्ण भाजपा से भारी नाराज हैं, जिसका असर आने वाले चुनाव में दिखेगा. सवर्ण मान रहे हैं कि SC-ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से इस कानून का दुरुपयोग रुक जाता. लेकिन वोट बैंक के चक्कर में मोदी सरकार ने फैसले को पलट दिया. खबर के अनुसार तेजप्रताप ने कहा कि भाजपा सरकार ने सवर्णों को धोखा दिया है. अब भाजपा सवर्णों के वोट की उम्मीद न रखे.

बीते दिनों बनारस में थे तेज प्रताप यादव

तेज प्रताप यादव का यह बयान उनके पार्टी लाइन से बिल्कुल हटकर था. चूंकि राजद काफी पहले से एससी एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने की मांग करता रहा है. तेजस्वी यादव समेत राजद के नेताओं ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार से अध्यादेश लाने की मांग की थी. विपक्ष और अन्य संगठनों के भारी दबाव के बीच केंद्र सरकार ने 9 अगस्त को संसद में एससी एसटी एक्ट पर संशोधित कानून को मंजूरी दे दी थी.

इससे पहले इस एक्ट के मुद्दे पर देश भर में दलितों का बड़े पैमाने पर विरोध-प्रदर्शन देखने को मिला था. साथ में सवर्ण संगठन भी अलग नाराज हो गए थे. उन्होंने भी हाल ही में 6 सितंबर को भारत बंद किया था. लेकिन इस पूरे मामले में तेज प्रताप यादव के बयान ने एक नई तरह की राजनीतिक हलचल को तेज कर दिया.

हालांकि अब तेज प्रताप यादव ने सोशल मीडिया के माध्यम से ही साफ किया कि उन्होंने ऐसा कोई भी बयान नहीं दिया था. उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि हम और हमारी पार्टी शुरू से ही आरक्षण की लड़ाई को लड़ते रहे हैं और यह लड़ाई आगे भी जारी रहेगी. तेज प्रताप ने उक्त खबर का एक स्क्रीन शॉट शेयर करते हुए आगे लिखा है कि गोदी मीडिया के इस सोच की निंदा करता हूं. हमने ऐसा कुछ कहा ही नहीं.

About Anjani Pandey 859 Articles
I write on Politics, Crime and everything else.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*