लाइव सिटीज, जमुई/राजेश : बिहार में आज जल जीवन हरियाली को लेकर मानव श्रृंखला का आयोजन किया गया था. हालांकि एक तरफ सरकार इसे सफल बता रही है तो वहीं विपक्ष इसे पूरी तरह से फेल बता रहा है. जमुई में विपक्ष के नेताओं ने ह्यूमन चेन को सरकार की नाकामी बताते हुए जनता के धन का दुरूपयोग करार दिया है.

जमुई से राजद विधायक विजय प्रकाश व सिकंदरा के कांग्रेस विधायक बंटी चौधरी ने कहा कि बिहार की एनडीए सरकार जनता से जुड़े ज्वलंत मुद्दे पर बात न करके जनता को बरगला रही है. रविवार को छुट्टी का दिन होने के बावजूद सरकारी तंत्र का दुरूपयोग करके छोटे-छोटे बच्चों को मानव श्रृंखला के नाम पर घंटों लाइन में खड़ा रखना सुप्रीम कोर्ट के आदेश तथा मानवाधिकार का खुला उल्लंघन है.

लोगों को पता ही नहीं क्यों लगाई मानव श्रृंखला- विजय प्रकाश

विजय प्रकाश जिले के कई हिस्सों में जाकर सड़क पर खड़े बच्चे, महिलाएं एवं अन्य लोगों से बात कर जानना चाह रहे थे कि आखिरकार वे लोग लाइन में क्यों खड़े हैं जबकि उन्हें यह पता नहीं कि मानव श्रृंखला का उद्देश्य क्या है. बाद में विजय प्रकाश ने बताया कि नीतीश सरकार ने जन जीवन हरियाली के नाम पर जनता की गाढ़ी कमाई के 24 हजार करोड़ रुपए की लूट-खसोट की है. उन्होंने कहा कि बीते दो महीने के दौरान 24 हजार करोड़ रुपये जल जीवन हरियाली के प्रचार प्रसार में लुटाया गया जबकि जनता को इसके बारे में पता भी नहीं है कि मानव श्रृंखला लगाई क्यों गई.

राजद विधायक ने अफसर शाही और सरकारी विद्यालय के शिक्षकों को आगाह करते हुए कहा कि क्यूं नहीं उन पर एफआईआर दर्ज कराई जाए. उन्होंने कहा कि छोटे-छोटे बच्चों को लाइन में खड़ा कर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की है, जिसके लिए अधिकारियों पर सख्त से सख्त कारवाई होनी चाहिए. राजद नेता ने यह भी कहा कि सरकार छोटे-छोटे बच्चों को झूठ बोलना भी सिखा रही है.

वहीं सिकन्दरा विधायक बंटी चौधरी ने मानव श्रृंखला को पूर्ण रूप से विफल बताया है. कांग्रेस विधायक ने कहा कि ये सरकार सिर्फ घोषणाओं की सरकार है. उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार जल जीवन हरियाली के लिए कुछ भी नही करेगी. यह सरकार सिर्फ जनता के आंखों में धूल झोंकती है. बंटी चौधरी ने कहा कि सरकार आज इतनी तानाशाह हो गई है कि गरीब बच्चे को ठिठुरते ठंड में जबरन 2 घण्टा खड़ा रखी है.

नालंदा में मानवता हुई शर्मसार, तीन साल के मृत बच्चे को एंबुलेंस भी नहीं दे पाया अस्पताल