बिहारियों की मदद के नाम पर हार्दिक पटेल ने की ‘सियासत’, हेल्पलाइन नंबर नहीं कर रहा कोई रिसीव

लाइव सिटीज (देवांशु प्रभात) : गुजरात से बिहार समेत उत्तर भारतीय के लोगों का पलायन लगातार जारी है. गुजरात में रह रहे बिहार समेत उत्तर भारतीय लोगों की सुरक्षा गारंटी पाटीदार नेता हार्दिल पटेल ने ली थी. लेकिन, हार्दिक ने अब अपनी बात से पलटी मारते दिख रहे हैं. आप कह सकते हैं कि उन्होंने बिहार समेत उत्तर भारतीय लोगों को जो सुरक्षा की गारंटी देने की बात कही थी, वह बस एक छलावा बनकर रह गयी है.

दरअसल दो दिन पहले गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल हेल्पलाइन नंबर जारी किया था. जिसमें कहा गया था कि उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड समेत गुजरात बाहर से रोजी-रोटी के लिए गुजरात आए हुए लोगों को अगर कोई मार-पीट करने की या गुजरात छोड़ने की धमकी दे, तो तुरंत हार्दिक पटेल के इस हेल्पलाइन नंबर 9978520793 पर संपर्क करे. पर, आज यानी शुक्रवार को हार्दिक पटेल का हेल्पलाइन नंबर कोई रिसीव नहीं कर रहा है. कभी ये नंबर बंद बता रहा है, तो कभी फुल रिंग हो जाने पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं आ रही है. कभी फोन को काट दिया जा रहा है.

खास बात ये है कि हार्दिक पटेल का ये हेल्पलाइन नंबर बैनर और पोस्टर के जरिए पटना के कई इलाकों में लगाये गये हैं. इसमें बिहार समेत उत्तर भारतीय को सुरक्षा की गारंटी देने की बात कही गई है. ये पोस्टर अभी भी आपको पटना में दिख जाएंगे. ऐसे में सवाल ये भी उठाया जा रहा है कि आखिर हार्दिक पटेल ने पटना में बैनर और पोस्टर क्यों लगवाए थे. जबकि, इसकी जरूरत तो गुजरात में रह रहे बिहारियों को है.

यह बोर्ड हार्दिक पटेल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है

बता दें कि हाल में गुजरात के साबरकांठा जिले में 14 महीने की बच्ची से कथित तौर पर बलात्कार करने के आरोप में बिहार के एक व्यक्ति की गिरफ्तारी की गई. इसके बाद गुजरात के कई हिस्सों में गैर गुजरातियों, खासतौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार के रहने वाले लोगों को निशाना बनाया गया. गुजरात छोड़ने पर मजबूर किया गया. जिसके चलते गुजरात में रह रहे यूपी-बिहार के लोगों का लगातार पलायन जारी है. इसको लेकर हार्दिक पटेल ने बिहार समेत उत्तर भारतीय लोगों की सुरक्षा के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया था. लेकिन अब इसे लेकर सियासी गलियारे में यह चर्चा तेज है कि यह सब महज चुनावी चोंचला है.


यह बोर्ड पटना में रोड किनारे लगा है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*