बिहार में कोरोना की स्थिति बेकाबू होने पर हाईकोर्ट ने नीतीश सरकार से जवाब तलब किया

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में कोरोना संक्रमण की स्थिति बेकाबू हो गई है. प्रतिदिन हजारों की संख्या में नए मामले सामने आ रहे हैं. राज्य में कोरोना की वर्तमान स्थिति पर पटना हाईकोर्ट ने राज्य की नीतीश कुमार सरकार से जवाब तलब किया है. कोर्ट ने कोरोना संक्रमण से जूझ रहे लोगों को बेहतर इलाज और स्वास्थ्य सेवा एवं अस्पतालों की लचर व्यवस्था पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.


पटना हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से कोरोना संकट से निबटने, कोरोना मरीजों के जांच व इलाज की व्यवस्था का पूरा ब्योरा तलब किया है. साथ ही जिलास्तरीय कोविड अस्पतालों की जानकारी, वहां तैनात डॉक्टरों, नर्स, पैरा मेडिकल स्टाफों का विस्तृत ब्योरा देने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि पटना एम्स, पीएमसीएच और एनएमसीएच जैसे बड़े अस्पतालों में बड़ी बदइंतजामी है, जिसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है.



कोर्ट ने राज्य सरकार को अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलिंडर, वेंटिलेटर व अन्य कोरोना इलाज के सुविधा का ब्योरा देने का आदेश दिया है. आईसीएमआर द्वारा जो रैपिड एंटीजन किट दिए गए हैं, उनका भी पूरा उपयोग नहीं किया जा रहा है. कोरोना मरीजों की जांच और इलाज की पूरी व्यवस्था नहीं हो सकी है. कोर्ट में इस मामले पर 7 अगस्त को फिर सुनवाई होगी.


राज्य में 33 हजार 511 संक्रमित

दूसरी तरफ बिहार में कोरोना का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. एक बार फिर सूबे में 1820 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है. इनमें 23 जुलाई को 737 और 22 जुलाई व इसके पूर्व के 1083 नए संक्रमित मरीज शामिल हैं. इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 33 हजार 511 हो गई है. सबसे भयावह स्थिति राजधानी पटना की है, जहां पिछले दो दिनों में सबसे अधिक 561 नए संक्रमित मिले हैं. पटना में अब कुल कोरोना संक्रमिताें की संख्या 5347 हो गई है.