बिहार के राजेश बने भाजपा का केंद्रीय पर्यवेक्षक, कनार्टक में उम्मीदवारों को देंगे कानूनी सलाह

पटना (विधि संवाददाता) : कर्नाटक में 12 मई को होनेवाले विधानसभा चुनाव को लेकर बिहार के अधिवक्ता राजेश सिंह को भाजपा ने पार्टी का केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. अधिवक्ता राजेश भाजपा उम्मीदवारों को कानूनी सहायता प्रदान करेंगे. इसके साथ ही ये चुनाव आयोग और संगठन के बीच चुनाव से संबंधित कानूनी मुद्दों पर कार्य करेंगे. उम्मीदवार को किसी भी तरह का कानूनी सलाह देने के साथ ही अन्य मामलों की भी समीक्षा कर उन्हें मदद करेंगे, ताकि किसी भी उमीदवार को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं हो.

राजेश सिंह की नियुक्ति से संबंधित पत्र भाजपा के केंद्रीय महामंत्री और कर्नाटक के प्रभारी मुरलीधर राव के निर्देश पर 16 अप्रैल को जारी किया गया है. राजेश के साथ दो अन्य लोगों को भी कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए पर्यवेक्षक मनोनीत किया गया है.

गौरतलब है कि राजेश सिंह बिहार के छपरा के रहनेवाले हैं और सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता हैं. विधि एवं विधायी प्रकोष्ठ भाजपा के राष्ट्रीय स्तर पर पदाधिकारी रहने के साथ ही भाजपा संगठन में कई पदों पर भी रह चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट में भाजपा संगठन से अधिवक्ताओं को जोड़कर एवं पार्टी के हर कार्य में सभी जगहों के अधिवक्ताओं को शामिल कराकर भाजपा संगठन को वकीलों की तरफ से मजबूती दी थी.

पड़ताल : कैशलेस हो गया बिहार, पैसे के लिए हाहाकार, ATM-ATM भटक रहे हैं लोग

बताया जाता है कि भाजपा में अनुपम योगदान के लिए इन्हें यह जिम्मेवारी मिली है. गौरतलब है कि इसके पहले भी भाजपा ने इन्हें बिहार, झारखंड के अलावा कई प्रदेशों में होनेवाले चुनाव में पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. राजेश को कर्नाटक विधानसभा चुनाव में केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाये जाने पर पटना हाईकोर्ट के अधिवक्ता राजन सहाय, रवींद्र शर्मा, रवि पांडेय, प्रियंका राजलक्ष्मी, राजेश कुमार, हरेराम सिंह समेत कई अधिवक्ताओं ने भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व को बधाई दी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*