जदयू का तंज : ‘हकमार यादव’ बन गये हैं तेजस्वी, अब दोबारा सत्ता में नहीं आनेवाले हैं…

SANJAY-SINGH
जदयू प्रवक्ता संजय सिंह (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : जदयू के मुख्य प्रवक्ता और विधान पार्षद संजय सिंह ने एक बार फिर तेजस्वी यादव पर कड़ा हमला किया है. संजय सिंह ने सोमवार को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के चुनाव को लेकर मुख्यमंत्री पर लगाये गये आरोप पर पलटवार किया है. उन्होंने तेजस्वी यादव को ‘हकमार यादव’ से संबोधन किया ​है. उन्होंने कहा कि हकमार यादव जी, आपकी राजनीति तो भ्रष्टाचार से परिपूर्ण है. नेता प्रतिपक्ष बेनामी संपत्ति का हिसाब मांगने पर ऐसे रो पड़ते हैं जैसे कोई बच्चा अपना खिलौना छीन जाने पर. बिना मेहनत की संपत्ति पर ऐसे कुंडली जमाये बैठे हैं, जैसे ये इनका खानदानी खजाना हो.

उन्होंने कहा कि ये बेनामी संपत्ति बिहार की गरीब जनता की है, जिनके नाम पर लालू परिवार ने राजनीति की, अब उसी जनता के धन को अपना बताने लगे. आज यदि जांच एजेंसियां कार्रवाई कर रही हैं तो गाल बजाने लगते हैं. उन्होंने कहा कि यह भी सच है कि जब भी अकेले होते होंगे, रोते जरूर होंगे. क्योंकि, जैसे इन्होंने सर मुड़ाया ओले पड़ने लगे हैं, यानी जैसे ही राजनीति शुरू की जेल जाने के रास्ते भी खुलने लगे हैं.

जदयू नेता संजय सिंह ने कहा कि एनडीए की एकजुटता जगज़ाहिर है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व को जनादेश 2020 तक के लिए मिला है. लेकिन हकमार यादव बेवज़ह लार टपका रहे हैं. बस आप इंतज़ार कीजिए, देखते देखते आप अकेले हो जाएंगे. घुटन तो आपके नेतृत्व को लेकर आरजेडी में है. राज्यसभा और विधान परिषद चुनाव तो होने दीजिए. जमीन का एहसास हो जाएगा. ये वो दौर नहीं है कि जाति, धर्म, इमोशन के नाम पर लोग वोट बर्बाद करेंगे. अब बिहार की जनता जागरूक हो चुकी है. बिहार की जनता विकास के नाम पर अपना वोट देगी. बिहार की जनता ईमानदार छवि को अपना मुखिया बनायेगी. बिहार की जनता ने 15 साल के जंगलराज को देखा था. वह यह भी देखा था कि सीएम रहते कौन जेल गया था? उसने यह भी देखा है कि अकूत संपत्ति किसने जमा की?

संजय सिंह ने तेजस्वी पर तंज करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम आपके मुंह पर शोभा नहीं देता. दिनदहाड़े सीबीआई की छापेमारी, आमजनों की भावनाओं की फ़िक्र किए बग़ैर अपनी बेनामी संपत्ति को छिपाना नीतीश कुमार की शिक्षा नहीं है. नीतीश कुमार के नाम पर आप अपनी राजनीति के दोहरेपन और कृत्यों को छिपाना चाहते हैं. लालू परिवार ने तो नीतीश कुमार के नाम पर दुबारा बिहार की सत्ता मुंह देख लिया. लेकिन अब ये मौक़ा दुबारा नहीं मिलने वाला है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*