गया में नीतीश कुमार को झटका, JDU के सैकड़ों पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने दिया इस्तीफा

गया के इमामगंज में उदय नारायण चौधरी के समर्थन में कार्यकर्ताओं ने जदयू से दिया इस्तीफा

गया (पंकज कुमार) : बिहार के गया जिले से बड़ी खबर आ रही है. जदयू को झटका देने वाली है. गया में जदयू के सैकड़ों पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने पार्टी से इस्तीफा दिया है. इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में यह सब हुआ है. पार्टी छोड़ने वालों ने जदयू के कई प्रखंड अध्यक्ष भी हैं. सभी ने जदयू के वरीय नेता व पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी के समर्थन में जदयू से इस्तीफा दिया है. बता दें कि पिछले दो माह से उदय नारायण चौधरी नीतीश सरकार पर लगातार बरस रहे हैं. मंगलवार को तो उन्होंने लालू प्रसाद के समर्थन में खुल कर आ गये. आज का इस्तीफा मामला उसी का अगला कदम माना जा रहा है. पॉलिटिकल कॉरिडोर में उदय नारयण चौधरी की ओर से नीतीश कुमार को झटका है. हालांकि जदयू के आरसीपी सिंह ने चौधरी पर अभी कार्रवाई की जरूरत नहीं बतायी है.

गया के इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में उस समय हलचल मच गयी, जब 350 से अधिक जदयू के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने पद व पार्टी से इस्तीफा दे दिया. इसे लेकर इमामगंज जगलाल सभागार में बैठक हुई. इसमें जिला एवं प्रखंड स्तर के सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे. उन्होंने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी के समर्थन में सामूहिक इस्तीफा दिया है. इस्तीफा देनेवाले जदयू के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने कहा कि प्रदेश एवं जिले में जदयू के तानाशाही रवैये के कारण सबों ने पार्टी छोड़ी है.



उदय नारायण चौधरी के समर्थन में आए जदयू कार्यकर्ता

नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी को विस चुनाव के समय जदयू के एमएलसी उपेंद्र प्रसाद एवं प्रदेश के कुछ नेताओं ने उनके के खिलाफ दुष्प्रचार किया था. इस्तीफा देनेवाले प्रमुख नेताओं में राज्य परिषद सदस्य बालेश्वर प्रसाद, जिला प्रवक्ता ब्रजेश प्रसाद, जिला कार्यकारिणी सदस्य साजिद अहमद बागी के अलावा इमामगंज विधानसभा क्षेत्र के तीनों प्रखंड अध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद, राजकुमार यादव व प्रह्लाद प्रसाद के अलावा जदयू नेता पवन कुमार, जनार्दन राय शामिल हैं.

बता दें कि जदयू के उदय नारायण चौधरी पिछले दो माह से बगावती तेवर अपनाए हुए हैं. अक्टूबर के लास्ट वीक में उन्होंने एक कार्यक्रम में नीतीश सरकार पर दलितों के विकास नहीं करने का आरोप लगाया था. उस कार्यक्रम में भाजपा के वरीय नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भी मौजूद थे. इसके बाद भी उदय नारायण चौधरी लगातार अपनी भड़ास निकालते आ रहे हैं. लेकिन मंगलवार को तो वे लालू प्रसाद के समर्थन में खुल कर सामने आ गये. उन्होंने नीतीश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि लालू प्रसाद पर बदले की भावना से कार्रवाई की जा रही है. लेकिन उनके खिलाफ जितनी कार्रवाई होगी, वे उतना अधिक चमकेंगे. आज बुधवार को गया से सामूहिक इस्तीफे ने बिहार की सियासत में हलचल मचा दी है.

बगावत तेज : जदयू नेता ने नीतीश सरकार पर किया हमला, लालू के समर्थन में आए 
उदय नारायण चौधरी को नोटिस भेज कर कागज क्यों बर्बाद करें