‘बिहार में बदहाल शिक्षा के लिए केवल लालू-नीतीश दोषी नहीं’

गया (पंकज कुमार) : बिहार की बदहाल शिक्षा एक बार फिर पॉलिटिकल कॉरीडोर में मुद्दा बन गया है. एनडीए के घटक दल हम पार्टी के सर्वेसर्वा व पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने इसे लेकर बिहार की सरकारों पर हमला किया है. उन्होंने कहा दो टूक कहा है कि बिहार में शिक्षा की बदहाली के लिए केवल लालू-राबड़ी दोषी नहीं हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी का आरोप है कि बदहाल शिक्षा व्यवस्था के लिए नीतीश एवं लालू-राबड़ी के 18 साल का शासन अकेले जिम्मेवार नहीं है. बल्कि, आजादी के बाद शिक्षा व्यवस्था को लेकर बनी नीति पूरी तरह से जिम्मेवार है. ये बातें मंगलवार को पूर्व सीएम मांझी गया जिला ‌मुखयालय से करीब 20 किमी दूर अपने पैतृक घर महकार में लाइव सिटीज से खास बातचीत में कहीं.

उन्होंने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा था कि जिस दिन जज, मंत्री, आईएएस, आईपीएस एवं अन्य बड़े लोगों के बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ने लगेंगे, उस दिन से शिक्षा व्यवस्था में अपने आप बदलाव आ जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि बाबा साहब भीमराव आंबेडकर और राममनोहर लोहिया ने एक समान शिक्षा व्यवस्था को पूरे देश में लागू करने की बात कही थी. जिसे अनसुनी कर दी गई.

हम के सुप्रीमो ने कहा कि आज की बदहाल शिक्षा व्यवस्था के लिए सरकार और समाज दोनों जिम्मेदार है. मांझी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी बिहार के चहुंमुखी विकास के लिए अपनी ओर से हर सम्भव मदद कर रहे हैं. इतना ही नहीं, पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा न देने को लेकर मचे बवाल पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि मोदी जी का विरोध करते करते लालू प्रसाद हर बात का विरोध करने लगते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि पटना विश्वविद्यालय की गरिमा अब वह नहीं रही है, जो पहले हुआ करती थी. इस मौके पर हम पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव संतोष कुमार सुमन, राष्ट्रीय सचिव धीरेन्द्र कुमार मुन्ना, वरिष्ठ नेता असद उर्फ कमांडर, पन्ना एवं अन्य नेता उपस्थित थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*