UPDATE : लालू प्रसाद की रिम्स में हो रही मेडिकल जांच, भेजे जा सकते हैं जेल!

लाइव सिटीज डेस्क : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की रिम्स में जांच चल रही है. हार्ट, डायबिटीज से लेकर किडनी तक की जांच की जा रही है. एक्सपर्ट डॉक्टरों की टीम लगी हुई है. बताया जा रहा है कि रिम्स के कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट में उन्हें रखा गया है. कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के रूम नंबर 3 में उनकी जांच डॉक्टर कर रहे हैं. सूत्रों की मानें तो यदि सबकुछ ठीक रहा तो उन्हें रांची के होटवार जेल में शिफ्ट किया जा सकता है. बता दें कि दिल्ली के एम्स से डिस्चार्ज होने के बाद मंगलवार की सुबह रिम्स लाये गये हैं.

लालू प्रसाद को कड़ी सुरक्षा में रिम्स लाया गया. इस दौरान रांची रेलवे स्टेशन से लेकर रिम्स तक सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं. उनकी सुरक्षा में 4 मजिस्ट्रेट, 2 डीएसपी और 150 अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई है. उधर रांची जेल अधीक्षक अशोक चौधरी के अनुसार लालू प्रसाद को जेल प्रशासन ने पिछले माह इलाज के लिए रिम्स भेजा था. रिम्स ने स्थिति को समझते हुए दिल्ली एम्स रेफर किया था. अब दोबारा लालू रिम्स पहुंच चुके हैं. वहां के डॉक्टर उन्हें जेल में रहने लायक फिट बताते हैं, तो उन्हें जेल वापस लाया जाएगा. सूत्रों के अनुसार पांच डॉक्टरों की टीम लालू प्रसाद की जांच कर रही है.

हालांकि जेल प्रशासन रिम्स के मेडिकल बोर्ड के निर्णय के अनुसार उनके रहने की व्यवस्था करेगा. जेल प्रशासन के अनुसार लालू से मिलने का दिन पूर्व की तरह गुरुवार ही रहेगा. 3 मई को लालू से तीन लोग मिल सकेंगे. जेल अधीक्षक अशोक चौधरी की मानें तो जिस तरह जेल परिसर में मीडियाकर्मियों व समर्थकों के प्रवेश पर रोक थी, यही व्यवस्था रिम्स में भी लालू के वार्ड के लिए लागू रहेगी. फिलहाल मंगलवार व बुधवार को उनसे मिलने की अनुमति किसी को नहीं है.

अगर फिट हैं लालू तो क्यों एडमिट कराया रिम्स में, भेजना चाहिए था जेल

गौरतलब है कि 4 मई को लालू प्रसाद के प्रोविजनल बेल पर झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई भी होनेवाली है. बहरहाल कोर्ट से क्या फैसला आएगा, इस पर कुछ नहीं कहा जा सकता है. बहरहाल लालू प्रसाद को लेकर बिहार से लेकर झारखंड तक में सियासत तेज है. वहीं रिम्स के आगे राजद समर्थक अभी भी डटे हुए हुए हैं. लालू प्रसाद की एक झलक पाने को वे लोग बेचैन हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*