GPO में मिली है शराब : अब जनता पूछ रही सवाल – क्या करेगी बिहार सरकार ?

पटना : पटना के GPO में आज गुरुवार 31 अगस्त को शराब की जब्ती हुई. जब्ती के साथ GPO के चार कर्मचारी भी पकडे गए. पकड़े जाने के वक़्त सभी शराब गटक रहे थे. मतलब ड्यूटी ऑवर में. यह तो और बड़ा क्राइम हो गया. चखना भी मिला है. गिरफ्तार सभी लोग जेल में रहेंगे. लेकिन इसके आगे सरकार कुछ और करेगी, जनता ने सवाल पूछना शुरू कर दिया है.

दरअसल, जनता का सवाल शराब से जुड़े कानून को लेकर ही पैदा हुआ है. कानून कहता है कि जिस प्रिमिसेज में शराब पकड़ी जायेगी, उसे सरकार जब्त कर लेगी. बिहार के कई जिलों में ऐसी जब्ती सरकार कर चुकी है. मकान खाली कराकर सरकार ने कब्जे की घोषणा कर दी है. कई मामलों में तो किरायेदार के फेर में मकान मालिक का मकान फंसा है. सभी परेशान हाईकोर्ट में लड़ाई लड़ने पहुँचते हैं. कोर्ट कई मामलों में अनेक शर्तों के साथ रियायत प्रदान करती है. अभी गोपालगंज के एक मामले में तो विदेश में रहने वाले मकान मालिक का मकान यहां जब्त हो गया.

अब सरकारी कानून ही ऐसा है, तो पब्लिक तो पूछेगी. बहस रेडियो मिर्ची के फेमस RJ शशि के फेसबुक अकाउंट पर शुरू हो चुकी है. शशि ने GPO में शराब पकड़े जाने के बाद एक फोटो पोस्ट किया है, जिसके स्टेटस में लिखा है – ‘आदेश है कि जिस घर या भवन में शराब मिले वो सील होगा, तो क्या अब GPO भी…’

RJ शशि के इतना लिखते ही सोशल मीडिया पर मौजूद लोग कूद पड़े हैं. सरकार से जवाब चाहते हैं. जाहिर तौर पर सरकार के लिए जवाब देना बहुत कठिन है. कानून का पालन हो तो शनिवार 1 सितम्बर से पटना का GPO बंद हो जाएगा. वैसे यह भी समझें कि GPO में शराब गटक रहे सरकारी बाबू कितने होशियार थे. वे जानते थे कि GPO में गटकेंगे, तो अधिक से अधिक जेल जायेंगे. घर में गटकेंगे तो मकान भी जाएगा. सो, उन्होंने सरकारी इमारत को ही सर्वाधिक सुरक्षित मधुशाला बना दिया. आगे सरकार का मूड जानने के लिए सोशल मीडिया पर बहस अभी और जारी रहने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें – GPO में जाम छलका रहे थे डाक बाबू, पुलिस ने किया गिरफ्तार

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)