भारत बंद के विरोध में उतरे रामविलास पासवान, कहा- यह आंदोलन बिल्कुल बेमानी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : एससी-एसटी एक्ट के संशोधन के खिलाफ आज हो रहे भारत बंद का केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने विरोध किया है. उन्होंने दो टूक कहा है कि यह बंद बिल्कुल बेमानी है. इसे कहीं से उचित नहीं कहा जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एससी-एसटी एक्ट को मजबूत किया है. वहीं उन्होंने इसे लेकर कांग्रेस पर भी निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जीवन भर बाबा साहब भीमराव अंबेडकर को गाली दी है.

बता दें मंगलवार को भीम आर्मी की ओर से बुलाये गये इस बंद को बिहार समेत पूरे देश में कई पार्टियों ने समर्थन किया है. जबकि, रामविलास पासवान की पार्टी लोजपा इस भारत बंद से बाहर है. भारत बंद को लेकर भीम आर्मी के आह्वान पर दलित समर्थक सड़क पर उतर आए हैं. पटना समेत अन्य कई जगहों पर ट्रैफिक को बाधित किया गया है. रोड पर टायर जलाकर लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. लेकिन, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान इस बंद के विरोध में उतर आए हैं.

लोजपा के मुखिया रामविलास पासवान ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत में कहा ​है कि आज का भारत बंद बिल्कुल बेमानी है. केंद्र की मोदी सरकार अच्छा काम कर रही है. दलितों के कल्याण के लिए नरेंद्र मोदी की सरकार समर्पित है. ऐसे में यह बंद बेमाना है. ठीक है दलित एक्ट को लेकर युवाओं में नाराजगी सही है. समाज के लोगों में गुस्सा जायज है. पर इसका लाभ राजनीतिक पार्टियां लेने में लगी हैं. उन्होंने इसे लेकर कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया.

BJP नेता अनिल सिंह ने औरंगाबाद कोर्ट में किया सरेंडर, सांप्रदायिक हिंसा मामले में फरार थे 

उन्होेंने यह भी कहा कि 1989 में बनी वीपी सिंह की सरकार के पहले बाबा साहब आंबेडकर का संसद भवन में कोई नाम नहीं लेता था. वीपी सिंह की सरकार में ही बाबा साहब की तस्वीर संसद भवन में पहली बार लगी. इस पर हमने कहा कि जो दिल में बसते हैं, उनकी दीवारों पर भी तस्वीर लग जाती है. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस ने तो जीवनभर अंबेडकर साहब को गाली देने का काम किया है. उन्होंने कहा कि कुछ लोग तो अंबेडकर साहब के नाम में ‘रामजी’ जोड़े जाने पर भी हल्ला कर रहे हैं. जबकि, कई नेताओं के नाम में राम का नाम लगा हुआ है. कुछ लोगों के नाम में उनके पिता का नाम भी लगा हुआ है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*