विक्रमशिला सेतु के समानांतर बनेगा एक और पुल, नितिन गडकरी व नीतीश कुमार में बनी सहमति

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को सम्मानित करते सीएम नीतीश कुमार

लाइव सिटीज पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय उच्च पथ परियोजना, गंगा सफाई और जलमार्ग से संबंधित परियोजनाओं की विस्तृत समीक्षा की. विक्रमशिला सेतु के समानांतर एक नये सेतु का निर्माण होगा. ये बातें मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद सभाकक्ष में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं सड़क परिवहन राजमार्ग के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की मौजूदगी में बिहार में निर्मित एवं निर्माणाधीन राष्ट्रीय उच्च पथ परियोजनाओं के अद्यतन स्थिति के संबंध में विस्तृत समीक्षा बैठक में आयीं. इस बैठक में एनएचएआई और बिहार सरकार के बीच एमओयू साइन हुआ, जिसके तहत सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए बिहार के सभी राष्ट्रीय उच्च पथों पर प्रत्येक 50 किलोमीटर की दूरी पर एम्बुलेंस और क्रेन की तैनाती की जायेगी.

पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा ने बिहार के राष्ट्रीय उच्च पथों के संदर्भ में प्रेजेंटेशन देकर वस्तुस्थिति से अवगत कराया. समीक्षा बैठक में पटना बक्सर, बिहारशरीफ-बरबीघा-मोकामा, पटना-गया-डोभी, अनिसाबाद-अरवल-औरंगाबाद, फतुहा-हरनौत-बाढ़ सहित बिहार के अन्य हिस्सों में 4 लेन और 6 लेन सड़क निर्माण, आरओबी निर्माण को लेकर जमीन अधिग्रहण, खान भू-तत्व विभाग से संबंधित समस्या, पर्यावरण क्लियरेंस, डीपीआर, ऊर्जा विभाग से संबंधित जैसे अन्य कई आ रही समस्याओं को सुलझाने के साथ ही बिहार में चल रही सभी परियोजनाओं की परियोजनावार समीक्षा हुई और कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया गया.

इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा, एनएचएआई के अध्यक्ष दीपक कुमार, खान एवं भूतत्व विभाग के प्रधान सचिव केके पाठक, राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, पटना प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर, जिलाधिकारी कुमार रवि सहित केंद्र सरकार और बिहार सरकार के संबंधित विभागों के अधिकारीगण मौजूद थे.

नमामी गंगे परियोजना, पटना रिवर फ्रंट डेवलपमेंट स्कीम, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, विद्युत् शवदाह गृह की समीक्षा बैठक के क्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गंगा नदी की अविरलता और निर्मलता कायम करने के लिए सिल्टेशन, सॉइल फार्मेशन की समस्या दूर करने के साथ ही गंगा नदी पर बने फरक्का बराज की उपयोगिता एवं बराज के स्ट्रक्चर के विषय में एसेसमेंट करने का सुझाव दिया. उन्होंने कहा कि जगह-जगह गंगा नदी के पानी का बहाव सिल्ट जमा होने के कारण काफी जमा हो गया है. उन्होंने कहा कि गंगा रिवर बेसिन अथॉरिटी के समक्ष भी हमने इस सवाल को उठाया था. उन्होंने कहा कि गंगा की अविरलता के बिना निर्मलता संभव नहीं है.

समीक्षा बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि बैठक में विक्रमशिला सेतु के समानांतर पुल, मुंगेर में एप्रोच रोड बनाने सहित अन्य कई बातों पर प्रोजेक्ट वाइज डिटेल डिस्कशन हुआ. मुख्यमंत्री ने कहा कि इन कामों को लेकर भूमि अधिग्रहण या अन्य जो समस्याएं हैं, उस पर केंद्र और बिहार सरकार के बीच विमर्श हुआ है और जहां-जहां काम शुरू होने में जो गतिरोध था, अब वहां काम तेजी से आगे बढ़ेगा. वहीं नितिन गडकरी ने कहा कि विक्रमशिला सेतु के समानांतर एक नये सेतु का निर्माण किया जाएगा. साथ ही पटना से बक्सर होते हुए बनारस तक एक नया फॉरलेन सड़क निर्माण हेतु डीपीआर बनवाने का कार्य प्रारम्भ किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पटना रिंग रोड के निर्माण से संबंधित एलाइनमेंट पर सहमति प्राप्त की गयी, जिसके लिए राज्य सरकार जमीन देगी. बैठक से पूर्व केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्री आवास 1 अणे मार्ग में मुख्यमंत्री से मुलाकात की. मुख्यमंत्री ने पुष्प-गुच्छ, अंगवस्त्र एवं प्रतीक चिह्न भेंटकर केन्द्रीय मंत्री गडकरी का स्वागत किया. मुलाकात के वक्त उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी समेत अन्य मंत्री व अधिकारी उपस्थित थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*