पाटलिपुत्रा महोत्सव में कल से हर रोज दिखेंगे #Bihar के सतरंगी रंग, #BrandBihar को जानेगी दुनिया…

लाइव सिटीज पटना : 26 दिसंबर से पाटलिपुत्रा महोत्सव का आगाज पटना के मिलर हाईस्कूल ग्राउंड में होने जा रहा है. पहली बार पाटलिपुत्रा महोत्सव के रूप में इतना बड़ा इवेंट बिहार में हो रहा है. महोत्सव की तैयारियां अंतिम चरण में हैं. जदयू इंडस्ट्री सेल, नेक्सटजेन वर्ल्ड के साथ मिलकर इस इवेंट का आयोजन कर रहा है. महोत्सव को ग्रैंड बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है. सात दिनों तक चलने वाले पाटलिपुत्रा महोत्सव से ब्रांड बिहार को दुनिया जानेगी.

सीएम और सांसद बढाएंगे हौसला




26 दिसंबर मंगलवार को सुबह 10 बजे से पाटलिपुत्रा महोत्सव का शुभारंभ होगा. इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जदयू सांसद आरसीपी सिंह भी मौजूद रहेंगे. साथ ही हौसला बढ़ाने के लिए पूरे शहर के लोग भी मिलर हाई स्कूल ग्राउंड में जुटेंगे. महोत्सव में बिहार के विकास की बात होगी. सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाएं दहेज प्रथा, बाल विवाह और शराबबंदी के प्रति लोगों को जागरूक किया जाएगा.

मिलेगी लोक कलाओं की शिक्षा


महिलाओं और युवा उद्यमियों के लिए हर रोज ट्रेनिंग सेशन का आयोजन होगा. बिहार की लोक कलाओं और डिजिटल इंडिया के तहत ट्रेंनिग दी जाएगी. पाटलिपुत्रा महोत्सव में एंटरटेनमेंट भी भरपूर होगा. 1 जनवरी तक हर रोज विभिन्‍न क्षेत्रों के सेलिब्रिटीज से मुलाकात होगी. सामाजिक मुद्दों पर शॉर्ट फिल्में दिखाई जाएंगी. नुक्कड़ नाटक के माध्यम से सोशल मैसेज दिया जाएगा.

महिला, युवा और कृषक उद्यमियों पर विशेष ध्यान


किसी भी राज्य के विकास में महिला, युवा और कृषक उद्यमियों का बहुत ही इंपॉर्टेंट रोल होता है. खासकर बिहार जैसे राज्य की भगौलिक स्थिति की वजह से यहां मंझले उद्यमियों को और स्ट्रांग बनाने की जरूरत है. इसके लिए महोत्सव में युवाओं को Bihar Ideathon का मंच मिलेगा. जहां वैसे युवाओं की जिंदगी संवारने पर काम होगा, जो बेहतरीन स्टार्ट अप आइडिया से खुद को एक सफल एंटरप्रेन्योर के रूप में देखना चाहते हैं.

बदलती सोच के साथ बढ़ेगा बिहार


पटना में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में जदयू इंडस्ट्री सेल के प्रदेश अध्यक्ष संजय खंडेलिया बताते हैं कि पाटलिपुत्रा महोत्सव से बिहार के मुख्यमंत्री द्वारा सफल शराबबंदी मुहिम को और तेजी से बढ़ाने पर कार्य होगा. साथ ही राज्य में बेरोजगारी, सामाजिक भेदभाव और महिला सशक्तीकरण जैसे मुद्दों पर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगों को अवेयर किया जायेगा. वहीं जदयू इंडस्ट्री सेल की प्रदेश उपाध्यक्ष सुनीता सिंह और अमृता सिंह ने कहा कि महोत्सव के जरिए बिहार के पर्यटन स्थलों, धरोहरों, व्यंजनों और लोक संगीत को वृहत रूप से प्रदर्शित किया जाएगा. जिससे इसकी जानकारी जन-जन तक पहुंचे. पाटलिपुत्रा महोत्सव के समापन समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में अपने उत्कृष्ट योगदान देने वाली महिलाओं एवं पुरुष विभूतियों को सम्मानित भी किया जाएगा.

दिल्ली-बिहार के कलाकार करेंगे एंटरटेन


बिहार की कला और संस्कृति के प्रचार प्रसार के क्रम में प्रतिदिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा. इसमें हर रोज अलग-अलग क्षेत्र के लोगों द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी. खासकर बिहार के लोक कलाकारों को आप खूब देखेंगे. इसमें डॉ नीतू नवगीत (प्रख्यात लोकगायिका), हरिशंकर वर्मा (भजन गायक), इंद्रजीत गांगुली और बरनाली गांगुली (गजल गायक), राजू मिश्रा (सूफी एवं कव्वाली), ब्रह्मा (भारतीय पाश्चात्य संगीत) और इसके साथ ही दिल्ली का मशहूर दक्ष बैंड एवं म्युजिकल मोटिवेशनल शो की भी प्रस्तुति होगी.