विशेष राज्य का दर्जा : बिहार में मुद्दा लपकने को राजद तैयार, हौले-हौले सुगबुगा रही जदयू-लोजपा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : विशेष राज्य का दर्जा की मांग पर अब बिहार में भी सियासत तेज हो गयी है. राजद जहां अब जोर-शोर से इस मुद्दे को लपकने को तैयार हो रहा है, वहीं एनडीए की घटक पार्टियां जदयू और लोजपा भी हौले-हौले सुगबुगाने लगी हैं, ताकि भाजपा से रिश्ता भी बना रहे. इसे लेकर बयान भी आने लगे हैं. गुरुवार को कुछ ऐसा ही माहौल बिहार की सियासत में देखने को मिल रहा है. बिहार विधानसभा में इसकी गूंज सुनाई पड़ी है.

बता दें कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को जदयू ने ही सबसे पहले उठाया था. इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब एनडीए के साथ थे, तो उन्होंने वर्ष 2010 में कहा था कि जो भी पार्टी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देगी, उसी पार्टी का वह समर्थन करेंगे. हालांकि उस समय केंद्र में यूपीए की सरकार थी, लेकिन उसने भी यह मांग नहीं मानी.

बाद में बिहार में कुछ ऐसी राजनीतिक परिस्थिति बनी कि नीतीश कुमार राजद और कांग्रेस के साथ महागठबंधन में शामिल हो गए. तब भी नीतीश कुमार की यह मांग लगातार जारी रही. इस बार केंद्र में एनडीए की सरकार आ गयी थी. लेकिन एनडीए ने भी इस पर कोई सकारात्मक पहल नहीं दिखाई. पिछले साल जुलाई में फिर बिहार की सियासत ने करवट बदली. नीतीश कुमार महागठबंधन से निकलकर एनडीए में शामिल हो गये. अब राजद की जगह भाजपा सत्ता में आ गयी. लोगों को लगा अब विशेष राज्य का दर्जा बिहार को मिल जाएगा. क्योंकि, दोनों जगहों पर एक ही सरकार है. लेकिन मामले पर सुस्ती ही छायी हुई है. जदयू ने भी इस मांग को लेकर कुछ अधिक ही शिथिल हो गया.

अब एक बार फिर यह मामला गरमाने लगा है. दरअसल विशेष राज्य देने की मांग  को लेकर चंद्रबाबू नायडू ने अपनी पार्टी टीडीपी को एनडीए से अलग कर लिया. इस पर गुरुवार को राजद जहां बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए यह मुद्दा लपकने को तैयार है, वहीं धीरे से जदयू ने फिर से अपनी इस मांग को दोहराने का काम किया है. मीडिया में आ रही रिपोर्ट के अनुसार जदयू के प्रधान सचिव केसी त्यागी ने कहा है कि जदयू की यह पुरानी मांग रही है तथा बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलना ही चाहिए. जबकि, जदयू के वरीय नेता पवन वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यह मांग वर्ष 2005 से ही उठाते रहे हैं.

वहीं लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान ने भी मीडिया से बात करते हुए इस मुद्दे को टच किया है. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि नीतीश सरकार इस मांग को काफी दिनों से कर रही है. एनडीए सरकार ने बिहार को एक स्पेशल पैकेज भी दिया है. हालांकि स्पेशल स्टेटस नहीं मिलने से कुछ लोग असंतुष्ट हैं. उनके लिए मैं इतना ही कहूंगा कि देश केवल एनडीए के शासनकाल में ही विकास कर सकता है.

बहरहाल राजद अब इस मुद्दे को लपकने को तैयार है. राजद इसे लेकर सत्ता पक्ष पर हमलावर हो गया है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने जहां नीतीश कुमार को कहा है कि ‘कुछ तो हिम्मत दिखाइए चाचा जी, हम आपके साथ हैं…’ उधर राजद के प्रवक्ता विधायक शक्ति सिंह यादव ने खुलकर कहा है कि मारिए मुख्यमंत्री के पद को लात और आ जाइए हमारे साथ. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर राजद नीतीश कुमार का साथ देने को तैयार है. उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री विशेष राज्य देने की मांग को लेकर बड़ी मानव श्रंखला बनाए, हमलोग खुलकर साथ देंगे. इतना ही नहीं गुरुवार को राजद ने बिहार विधानसभा में कार्यस्थगन का प्रस्ताव भी लाया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*