बालू पर बढ़ा बवाल : मनेर में गुस्साए लोगों का पुलिसकर्मियों पर हमला, जिप्सी में लगाई आग

पटना (अजीत) : बालू और पत्थर खनन को लेकर बिहार में संग्राम जारी है. बीती रात से ट्रक ऑपरेटर के अनिश्चितकालीन हड़ताल के बाद से पूरे बिहार में बवाल जारी है. आज मंगलवार अहले सुबह से ही आरा-पटना मुख्य मार्ग को जाम कर दिया गया था. शाम तक स्थिति और भयावह हो गई है. मिली जानकारी के अनुसार गुस्साए लोगों ने शाम तक कई क्विक मोबाइल की गाड़ियों में आग लगा दी है जिसके बाद से स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. कई थानों की पुलिस टीम मौके पर पहुंची हुई है. ब्रजवाहन को भी बुलाया गया है.

मालूम हो कि राजधानी पटना से सटे मनेर थाना के दरवेशपुर पेट्रोल पंप के पास बालू को लेकर ग्रामीणों द्वारा एनएच-30 को सुबह से ही जाम किया गया था. जब जाम हटाने मौके पर मनेर पुलिस, शाहपुर पुलिस और रूपसपुर पुलिस पहुंची तो इस दौरान भीड़ ने इन तमाम पुलिसकर्मियों पर पथराव शुरू कर दिया. पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए हवाई फायरिंग करनी शुरु की. जिसके बाद से वहां तनाव बढ़ गया और देखते ही देखते करीब 12 की संख्या में लोग बुरी तरह से घायल हो गए. हमले में घायल चार पुलिसकर्मियों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है.



ट्रक मालिकों का कहना है कि जब तक सरकार पुरानी नीति के आधार पर बालू को चालू नहीं करती है, तब तक चक्का जाम जारी रहेगा. प्रदर्शन कर रहे ट्रक मालिकों समेत वहां मौजूद ड्राइवरों व मजदूरों का आरोप है कि नई बालू नीति से ट्रक मालिकों के साथ साथ चालकों और मजदूरों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है.

बालू मामला : अब सुप्रीम कोर्ट ने भी बिहार सरकार को दिया झटका
आराः सड़क पर उतरे बालू व्यवसायी और मजदूर तो धड़ाधड़ गिर गए शटर, रोक दी गईं कई ट्रेनें भी

ट्रक मालिक ललन यादव ने कहा कि ट्रक और ट्रैक्टर में जीपीएस लगाए जाने के आदेश ने उनके खर्च को और बढ़ा दिया है. नीतीश सरकार के खिलाफ उनका आंदोलन तब तक जारी रहेगा, जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं की जाती. जाम में बच्चे, बूढ़े जवान से जेकर महिलाएं तक बड़ी संख्या में दिखीं. जाम की स्थिति ऐसी थी कि मुख्य सड़क के साथ-साथ गांव की गलियों से होकर जाने वाले रास्ते में भी लोगों ने पेड़ रखकर उसे बाधित कर दिया. इसके साथ ही दानापुर में भी प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाकर प्रदर्शन किया.

नीचे देखें हंगामे की अन्य तस्वीरें –