उपेंद्र कुशवाहा चिल्लाते रहे गये एनडीए में तालमेल की कमी, उधर अमित शाह से मिल लिये रामविलास

Paswan
अमित शाह के साथ पासवान पिता -पुत्र (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : रालोसपा के मुखिया उपेंद्र कुशवाहा मीडिया के सामने चिल्लाते रह गये कि एनडीए में तालमेल की कमी है. एनडीए में कुछ ठीक नहीं चल रहा है. इतना ही नहीं, उपेंद्र कुशवाहा के बयान को जदयू का समर्थन भी मिला. लेकिन अभी उपेंद्र कुशवाहा के बयान के 24 घंटे भी नहीं बीता कि लोजपा के मुखिया रामविलास पासवान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिल आए. साथ में उनके बेटे चिराग पासवान भी थे. खास बता कि इस ‘मिलन’ का पहले से कोई प्रोग्राम तय भी नहीं था. ऐसे में इसे लेकर सियासत तेज हो गई है. लोग मान रहे हैं कि एनडीए में कुछ न कुछ खींचतान चल रही है.

मिल रही जानकारी के अनुसार दिल्ली में रविवार को भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह से लोजपा अध्‍यक्ष रामविलास पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान ने मुलाकात की. सूत्रों की मानें तो तीनों नेताओं के बीच लगभग 40 मिनट तक बात हुई है. अमित शाह से भेंट कर बाहर निकले रामविलास पासवान ने कहा कि एनडीए को लेकर कोई विशेष बातचीत नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि हमने मुख्‍य रूप से तीन मुद्दों पर बात की. दो मुद्दे दलितों को लेकर थे, तो तीसरा मुद्दा बिहार को स्पेशल स्टेटस देने को लेकर था.

रामविलास पासवान ने कहा कि एससी-एसटी एक्‍ट के लिए ऑर्डिनेंस लाने को लेकर अमित शाह से बात हुई है. साथ प्रमोशन में आरक्षण देने को लेकर पर चर्चा हुई है. उनसे कहा गया है कि प्रमोशन में आरक्षण नहीं मिलने को लेकर दलितों में आक्रोश है. इस पर केंद्र को गंभीर होने की जरूरत है. वहीं चिराग पासवान ने भी मीडिया से कहा कि दलितों से लेकर बिहार के स्पेशल स्टेटस पर अमित शाह से सकारात्मक चर्चा हुई है.

गौरतलब है कि उपचुनावों में लगातार हार के बाद एनडीए के घटक दलों में काफी असंतोष है. खासकर जदयू और रालोसपा इसे लेकर भाजपा पर इशारों ही इशारों में हमला भी कर रही हैं. 31 मई को उपचुनावों के रिजल्ट के बाद से लगातार तीन दिनों तक जदयू ने भाजपा को नसीहत के साथ ही चेतावनी भी दे डाली. जदयू के महासचिव केसी त्यागी ने साफ-साफ कह दिया कि केंद्र के कुछ फैसलों को लेकर लोगों में आक्रोश है. 2014 जैसा अभी भाजपा के प्रति देश में लहर भी नहीं है. उन्होंने यह भी कहा था कि पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार हो रही वृद्धि से भी लोग नाराज हैं. वहीं उन्होंने उपेंद्र कुशवाहा के उस बयान का भी समर्थन किया है, जिसमें कुशवाहा ने एनडीए में तालमेल की कमी होने की बात कही थी.

उपेंद्र कुशवाहा के समर्थन में आया जदयू, केसी त्यागी बोले- 2014 जैसा माहौल नहीं

बता दें कि शनिवार को रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि एनडीए में तालमेल की कमी है. उन्होंने कहा कि उपचुनावों में लगातार मिल रही हार चिंता का विषय है. उपेंद्र कुशवाहा यहीं पर नहीं रुके. उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव का समय आने से पहले यह तय हो कि कौन सी पार्टी अगले चुनाव में कितनी सीटों पर लड़ेगी. इधर रविवार को लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान के अचानक अमित शाह से मुलाकात किये जाने के बाद बिहार की सियासत तेज हो गयी है. इस मिलन के राजनीतिक गलियारे में मायने निकाले जा रहे हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*