‘जब लालू प्रसाद का पूरा परिवार एक साथ जेल में होगा, तब वहीं उनकी राजनीति होगी’

lalu_prasad_story
लालू प्रसाद (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज पटना : जेडी (यू) मुख्य प्रवक्ता और विधान पार्षद संजय सिंह ने बयान जारी करते हुए कहा है कि जब पेड़ बोय बबूल का तो आम कहां से होय. आज लालू प्रसाद ने पिछ्ला कर्म किया है, उसका परिणाम उनके पुत्र को मिल रहा है. ईडी एक बार फिर अपनी कवायद शुरू कर दी है. यदि ये परिवार पाक साफ होता तो ये नौबत न तो लालू प्रसाद पर आती और न ही तेजस्वी पर, न राबड़ी देवी पर और न ही मीसा भारती पर. लेकिन, सभी थे धन के लालची और सब ने मिलकर ये गोरखधंधा किया है. अब जांच एजेंसियां इन पर दबाव बना रही है तो ये कहते हैं कि इन्हें फंसाया जा रहा है. अब इनको कौन समझाए कि फंसाया एक बार जाता है बार बार नहीं. यानी चोर मचाये शोर.

उन्होंने कहा कि लालू परिवार भ्रम का शिकार है. उन्हें लगता है कि वो देव लोक से आये हैं. न आकाश में, न धरती पर, न सुबह को, न शाम को, न मानव और न जानवर, कभी और कोई भी इनका कुछ नहीं बिगाड़ सकता है. ये जो चाहेंगे वो कर लेंगे और उसे पचा भी लेंगे. लेकिन हर बार हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद नहीं होता. लेकिन हर बार हिरण्यकश्यप का वध नरसिंह अवतार ही करते हैं. शायद लालू परिवार को हिरण्यकश्यप वाला भ्रम है. लालू परिवार में हिरण्यकश्यप में कोई फर्क नहीं.



जदयू प्रवक्ता संजय सिंह(फाइल फोटो)

जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि अवतार समझने की गलती लालू प्रसाद ने 1997 में भी की थी और उन्हें अवतार बनाने की गलती 2017 में उनके बेटे कर रहे हैं. ये वक्त वक्त की बात कभी जेल में महफ़िल सजाते थे, आज एक आदमी से मिलने को तरस रहे हैं. जब रांची में जेल जाते तो उनके स्वागत के लिए लोग राह में खड़े रहते थे. हाथी और घोड़ों से इनकी जेल यात्रा निकलती थी, लेकिन वक्त ने करवट ली है. आज जेल भी वही है, राज्य भी वही है, लोग भी वही हैं, लेकिन माहौल वो नहीं है. आज सबकुछ बदल गया. इसलिए कभी वक्त का सम्मान करना चाहिए.

संजय सिंह ने कहा कि शकुनी मामा जैसे अपने ही भांजों का नाश कर दिया था, वैसे ही लालू प्रसाद भी अपने हाथों से ही अपने बेटों का सत्यानाश कर चुके हैं. आज भले लालू प्रसाद जेल में हैं, लेकिन जल्द ही उनके बेटे उनका साथ जेल में देंगे. तब रणनीति बनेगी. जब पूरा परिवार एक साथ जेल में होगा, तो वहीं आपस में राजनीति करेंगे.