बच्चों को चीनी के बदले गुड़ खाने के लिए प्रेरित करें : राधिका

पटना : मानवता की सेवा सबसे बड़ा धर्म और कर्म है. किसी समाज को अच्छे राह पर चलने के लिए प्रेरित करना और लगातार प्रेरित करते रहना एक सतत् प्रकिया है. जिसका परिणाम धीरे-धीरे ही सही लेकिन अवश्य मिलता है. स्टूडेंट्स ऑक्सीजन मूवमेंट का क्विट रहें हैं.

स्टूडेंट्स ऑक्सीजन मूवमेंट के कन्वेनर बिनोद सिंह ने क्विट शुगर कैम्पेन के तहत डॉक्टर डी. वाई पाटिल स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमति राधिका के से मुलाकात कर उन्हें क्विट शुगर कैम्पेन में शामिल हो चीनी छोड़ने के लिए प्रेरित करने की कोशिश की.

क्विट शुगर कैम्पेन के तहत जहर रुपी चीनी की जानकारी प्राप्त कर श्रीमति राधिका के ने कहा कि आज के बाद मैं चीनी की चाय नहीं पीऊँगी. हमारे यहां केरल में गुड़ काफी प्रसिद्ध है. मैं अधिकतर गुड़ से बने सामान खाती हूं पर चाय में चीनी लेती थी. अब जहरीली चीनी की जानकारी के बाद मैं चीनी वाली चाय नहीं पियूंगी और सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं सहित छात्रों को चीनी छोड़ने के लिए प्रेरित करूंगी.

डॉक्टर डी. वाई. पाटिल स्कूल के जरिये हमारी कोशिश होगी की छात्रों के घर-घर से चीनी को हटाया जाए और विटामिन व मिनरल से भरपूर गुड़ को पुन: घर में स्थापित किया जाए. यदि हम बच्चों को शुरुआत से ही गुड़ खाने की आदत लगा दें तो उनका चीनी के प्रति आकर्षण होगा ही नहीं और वे चीनी रुपी ज़हर से बचे रहेंगे.

स्टूड़ेट्स ऑक्सीजन मूवमेंट के कन्वेनर बिनोद सिंह ने डी. वाई. पाटिल स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमति राधिका से क्विट शुगर कैम्पेन से जुड़ने का निवेदन करते हुए उन्हें धन्यवाद दिया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*