सोनिया गांधी की डिनर पार्टी में पहुंचे तेजस्वी व जीतनराम मांझी, मीसा भारती भी पहुंचीं

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कांग्रेस की पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की डिनर पार्टी में नेताओं का आना शुरू हो गया. दिल्ली में सोनिया गांधी ने मंगलवार को डिनर पार्टी का आयोजन किया है. सबसे पहले पहुंचनेवालों में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव व बड़ी बेटी राज्यसभा सांसद मीसा भारती के अलावा हम के नेता जीतनराम मांझी शामिल हैं. इनके अलावा झारखंड के भी कई नेता वहां पहुंच गये हैं. आनेवाले नेताओं को सोनिया गांधी स्वागत कर रही हैं. बता दें कि इस डिनर पार्टी को लेकर पॉलिटिकल कॉरिडोर में जबर्दस्त चर्चा हैं.

दिल्ली से आ रही खबर के अनुसार में सोनिया गांधी की डिनर पार्टी में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के अलावा राज्यसभा सांसद मीसा भारती भी पहुंचीं. हाल ही एनडीए से महागठबंधन में शामिल होनेवाले हम पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी भी पहुंच गये हैं. अन्य दलों के नेताओं का भी आना शुरू हो गया. जानकारी के अनुसार झारखंड से झामुमो के वरीय नेता व पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तथा जेवीएम नेता व पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी भी पहुंच गये हैं. वहीं गुजरात के राज्यसभा सांसद अहमद पटेल व शरद पवार भी डिनर पार्टी में पहुंच गये हैं.

गौरतलब है कि कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी विपक्षी दलों के नेताओं के लिए डिनर का आयोजन किया है. इसे 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी पार्टियों की एकता के तौर पर देखा जा रहा है. इस डिनर के जरिए कांग्रेस की कोशिश बदले हालात में उन दलों को भी साथ करने की है, जिन्हें भाजपा से परहेज है. 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा का विजय रथ रोकने के इरादे से सोनिया गांधी विपक्षी दलों को यह डिनर पार्टी दे रही है. इसमें 17 पार्टियों के नेताओं को निमंत्रण दिया गया है. पार्टी में ममता बनर्जी खुद नहीं आ सकी हैं, लेकिन उनके प्रतिनिधि पहुंचे हैं.

पॉलिटिकल कॉरिडोर में हो रही चर्चा के अनुसार कांग्रेस इस डिनर के सहारे तीसरे मोर्चे के बजाय भाजपा के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक विपक्षी एकजुटता वाले गठबंधन की राजनीतिक जरूरत का संदेश देने की कोशिश कर रही है. कांग्रेस के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी राहुल गांधी को सौंपने के बाद अब सोनिया गांधी की कोशिश 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष को एकजुट करने की है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*