साथ दिखे पप्पू यादव और उपेंद्र कुशवाहा, दोनों के बीच ‘खिचड़ी’ पकने की अटकलें तेज

पटना स्थित महेंद्रू में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा व मधेपुरा सांसद पप्पू यादव

लाइव सिटीज डेस्क : एनडीए घटक दल में शामिल रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केंद्रीय राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा और मधेपुरा के जाप(लो) सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव सोमवार को पटना में एक साथ दिखे. इस मिलन को लेकर पॉलिटिकल कॉरिडोर में ‘खिचड़ी’ भी पकने लगी है. और हां, इसी कार्यक्रम में जदयू के श्याम रजक भी पहुंचे थे. लेकिन उन सब में क्या बात हुई, इस पर कोई बोलने को तैयार नहीं है. दरअसल केंद्रीय राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा और पप्पू यादव ने सोमवार को पटना के महेंद्रू स्थित राजकीय कल्याण छात्रावास में आयोजित कार्यक्रम में एक साथ शिरकत की थी.

महेंद्रू के राजकीय कल्‍याण छात्रावास में सोमवार को माता सावित्री बाई फुले जयंती समारोह का आयोजन किया गया था. इसी कार्यक्रम में तीनों दिग्गज नेता पहुंचे थे. मौके पर जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और मधेुपरा सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने कहा कि वैज्ञानिक चिंतन से ही मानवता का विकास संभव है. माता सावित्री बाई फुले ने भी मानवता के दर्शन को अपनाया था. उन्‍होंने कहा कि वंचित वर्गों में शिक्षा के विकास में माता सावित्री बाई फुले का अतुलनीय योगदान रहा है.

कार्यक्रम में भाग लेते मधेपुरा सांसद पप्पू यादव

सांसद पप्पू यादव ने कहा कि माता सावित्री बाई फुले के ही प्रयास से महिलाओं में शिक्षा का प्रचार-प्रसार शुरू हुआ. उनके प्रयास से ही वंचितों और गरीबों ने शिक्षा के महत्व को पहचाना. इसी का असर था कि इन वर्गों में शिक्षा की भूख पैदा हुई और पढ़ने की ललक बढ़ी. इसका व्‍यापक असर पूरे समाज पर पड़ा. उन्होंने साहित्‍यकार स्‍वामी विवेकानंद, ज्‍योतिबा राव फुले, रैदास, अरविंद घोष, पेरियार जैसे संतों की भी चर्चा की.

कार्यक्रम को संबोधित करते पप्पू यादव व मंच पर बैठे उपेंद्र कुशवाहा

उधर पप्पू यादव के अलावा केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री व जदयू के विधायक श्याम रजक ने भी माता सावित्री बाई फुले को याद किया और उनके किये गये प्रयासों को सराहा. नेताओं ने कहा कि शिक्षा की ज्‍योति को गांव-गांव तक पहुंचाने के लिए लोगों को संकल्प लेने की जरूरत है, तभी माता सावित्री बाई फुले का सपना पूरा होगा. कार्यक्रम में राजेश रंजन पप्‍पू, आजाद चांद, गौतम आनंद समेत बड़ी संख्‍या में जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकर्ता भी मौजूद थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*