ट्रक चालक के प्यार में युवती किस कदर हुई दीवानी, घर छोड़कर छत्तीसगढ़ से पहुंच गई बिहार

लाइव सिटीज पटना: कहा जाता है कि प्यार की कोई सरहद नहीं होती है. जब प्यार हो जाता है तो बाकी चीजें कोई मायने नहीं रखती है. ऐसा ही एक मामला आया है भारत के छत्तीसगढ़ राज्य से, जहां एक युवती ने प्यार की दीवानगी की सारी हदें पार करते हुए बिहार आ पहुंची. बिहार के पश्चिम चंपारण में इस प्रेमी जोड़े को पुलिस ने पकड़ा है.

छत्तीसगढ़ के बस्तर जिला के बोधघाट से भागकर आयी लड़की लौरिया थाना क्षेत्र के ठाकुर टोला गांव में मिली है. छत्तीसगढ़ से यहां आयी पुलिस ने लौरिया पुलिस की मदद से ठाकुर टोला गांव के रहने वाले धर्मेन्द्र ठाकुर के घर तलाशी ली, जहां से लड़की का पता चला है. आरोपित मंजय ठाकुर को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

इस मामले पर छत्तीसगढ़ के बोधघाट के दारोगा प्रेम कुमार ने कहा कि छतीसगढ़ के परमा नाका नीम गांव की रहने वाली लड़की के पति ने अपहरण की प्राथमिकी दर्ज कराई है. मिली जानकारी के अनुसार जिस लड़की को अगवा किया गया है उस लड़की के पिता छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में सब्जी की दुकान करते हैं.

लड़की भी पिता के काम में सहयोग करती है और वह भी दुकान चलाती थी. आरोपित मंजय ठाकुर ट्रक ड्राइवर है. छतीसगढ में वह ट्रक चलाता था. इस दौरान सब्जी खरीदने के लिए वह लड़की की दुकान पर आता था. इसी दौरान दोनों एक दूसरे के करीब आए और नजदीकियां इतनी बढ़ गई कि दोनों ने एक दूसरे का होने का फैसला करते हुए भाग कर शादी कर ली.

बता दें कि छतीसगढ की पुलिस कुछ दिन पहले ही लौरिया के ठाकुर टोला गांव से प्रिया कुशवाहा को लेकर गई. लेकिन दोनों प्यार में इस कदर दीवाने थे कि एक दूसरे के बिन रह नहीं पाए और फिर दोनों छतीसगढ से भागकर ठाकुर टोला गांव चले आए. आरोपित के परिजनों के मुताबिकदोनों ने शादी कर ली है. प्यार के ऐसे ही दिलचस्प मामले सामने आते रहते हैं. तभी तो कहा गया है कि प्यार किसी सरहद को नहीं मानता है.