बिहार में कोरोना संक्रमण का बढ़ रहा खतरा, खुले में फेंक रहे पीपीई किट और मास्क, लोगों में दहशत

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क:बिहार में कोरोना की कहर लगातार जारी है. कोरोना महामारी की दूसरी लहर आ जाने के बावजूद कई लोग बिना मास्क लगाए सड़कों पर घूमते नजर आ जाते हैं. ऐसा ही नजारा पटना एयरपोर्ट पर भी नजर आ रहा है. कड़े निर्देश और सख्ती के बावजूद लोग आदतों पर लगाम नहीं लगा रहे हैं. इससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है. पटना एयरपोर्ट के पास इस्तेमाल की हुई पीपीई किट फेंका हुआ है. एयरपोर्ट प्रशासन से पीपीई किट और उपयोग किए गए मास्क के लिए अलग से कई सारे डस्टबिन लगा रखें हैं, मगर फिर भी लोग गैरजिम्मेदाराना रवैया अपनाते हुए खुले में ही फेंक दे रहे है.

कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. इन सबके बीच घोर लापरवाही की घटनाएं भी लगातार सामने आ रही हैं. इस्तेमाल की हुई पीपीई किट और मास्क खुले में इधर-उधर फेंके जा रहे हैं. इससे न केवल संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है बल्कि पर्यावरण को भी तगड़ा नुकसान पहुंच रहा है. ये हाल तब है जबकि इस्तेमाल की हुई पीपीई किट, ग्लब्ज और मास्क आदि को तय प्रोटोकाल के अनुसार डिस्पोज करना अनिवार्य है. खुले में पीपीई किट फंकने से इलाके में दहशत बना हुआ है.

नियमों के मुताबिक प्रयोग की गई पीपीई किट का डिस्पोजल तय प्रोटोकोल के अनुसार करना अनिवार्य है. रोगियों के इलाज में पीपीई किट, मास्क, गलब्ज का प्रयोग किया गया हो या रोगी की मौत के बाद दाह संस्कार में प्रयोग की गई हो, इनका डिस्पोजल पूरी सावधानी से करने का निर्देश है.

गौरतलब हो कि बुधवार को बुधवार को ही पटना जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर ने एयपोर्ट निदेशक को पत्र लिखा, जिसमें कहा कि महाराष्ट्र, पंजाब और केरल से पटना आने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से कोविड-19 RT-PCR का नेगेटिव रिपोर्ट लाना होगा. इसके अलावा रिपोर्ट नेगेटिव आने के बावजूद यात्रियों को 10 दिन होम क्वारंटीन में रहना होगा.