मेंटल हेल्‍थ के लिए डॉक्टर से लेकर मरीज तक ने लगाई दौड़, बीमारी से बचने को दिए टिप्स

रन फॉर मेंटल हेल्‍थ में शिरकत करते पटना के लोग.

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : इंडियन साइकिएट्रिक सोसाइटी की बिहार शाखा ने विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर बुधवार को मानसिक स्वास्थ्य के लिए दौड़ का आयोजन किया. कार्यक्रम में क़रीब 200 लोगों ने शिरकत की. इसमें मनोचिकित्सकों तथा अन्य मानसिक स्वास्थ्यकर्मियों ने भी भाग लिया. लोगों के बीच विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के थीम से संबंधित पर्चे भी बांटे गए और लोगों से बातचीत भी की गयी.

इस वर्ष के थीम बदलती दुनिया में युवा और उनकी मानसिक सेहत पर इंडियन साइकिएट्रिक सोसाइटी के राष्ट्रीय जेनरल सेक्रेटेरी डॉ विनय कुमार ने मीडिया से बात की. उन्होंने बताया कि वैश्वीकरण और तकनीकी विकास दुनिया इतनी तेज़ी से बदल रही है कि युवाओं के लिए अपने आपको संभालने में बड़ी मुश्किलें आ रही हैं.

उन्होंने बताया कि टूटते परिवार और व्यक्ति केंद्रित होते समाज ने उन्हें अकेला कर दिया है. 15 से 29 की उम्र के युवाओं में डिप्रेशन/अवसाद तीसरी बड़ी समस्या है और आत्म हत्या मौत की दूसरी बड़ी वजह. युवाओं में मौत की सबसे बड़ी वजह है दुर्घटना और हिंसा. इसके पीछे भी मनोवैज्ञानिक कारण ही होते हैं.

शोध बताते हैं कि लगभग आधी मानसिक बीमारियां 14 साल की उम्र में ही प्रकट हो जाती हैं, इसलिए इस वर्ष के अभियान का विशेष महत्व है. डॉ विनय ने आगे कहा कि मानसिक रूप से स्वस्थ युवा के निर्माण का काम बेहतर लालन-पालन, संतुलित शिक्षा और बेहतर शारीरिक स्वास्थ्य के द्वारा हासिल किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि बचपन से ही चुनौतियों का सामना करने की ट्रेनिंग उनके व्यक्तित्व में लचीलापन लाता है और तनाव तथा मनोरोग से बचाता है. बुधवार को आयोजित दौड़ में डॉ पीके सिंह, डॉ एनपी सिंह, डॉ केपी शर्मा, डॉ मनीष कुमार, डॉ राकेश कुमार सिंह, डॉ संतोष कुमार समेत अनके लोग शामिल हुए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*