नेपाल के उद्योगपतियों ने बिहार में निवेश की इच्छा जताई, शाहनवाज हुसैन बोले-तुम मुझे जमीन दो, हम तुम्हें उद्योग देंगे

लाइव सिटीज पटना: बिहार में उद्योगों की स्थापना को रफ्तार और गति प्रदान करने के लिए हर जिलों में जाकर उद्योग विभाग की योजनाओं की समीक्षा और लगातार उद्योगपतियों व उद्यमियों से संवाद कर रहे बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन गुरुवार को अररिया पहुंचे और यहां उन्होंने उद्योग से संबंधित योजनाओं की समीक्षा, मुख्यमंत्री उद्यमी योजनाओं के लाभुकों के साथ संवाद करने के साथ अररिया को कई सौगात देने का ऐलान किया.

उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि अररिया और बिहार के सीमांचल इलाके में पैदा होने वाला मखाना उत्तम क्वालिटी का होता है. इसलिए अऱरिया में मखाना उद्योग को संगठित और प्रोत्साहित करने के लिए यहां मखाना क्ल्स्टर बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि अररिया बिहार का इंटरनेशनल जिला है और नेपाल के बहुत से उद्योगपतियों ने बिहार के सीमावर्ती जिले में निवेश की इच्छा जाहिर की है. उन्होंने कहा कि नेपाल के औद्योगिक क्षेत्र विराटनगर से अररिया की दूरी काफी कम है और यहां सड़कों का भी जाल बिछ चुका है जिसकी बेहतरीन इंटरनेशनल कनेक्विटी है इसलिए नेपाल के इंवेस्टर्स बिहार में औद्योगिक ईकाईयां स्थापित करना चाहते हैं.

उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि नेपाल के इंवेस्टर्स को प्रोत्साहित करने के लिए अररिया में इंडो-नेपाल इंवेस्टर्स मीट का आय़ोजन किया जाएगा. अररिया में मुख्यमंत्री उद्यमी योजनाओं के लाभार्थियों को तेजी से उद्योग लगाने औऱ इसे सफलता से चलाने के लिए प्रोत्साहित करने के मकसद से आयोजित किए गए उद्यमी सम्मेलन को संबोधित करते हुए बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि अररिया किशनगंज के इलाके से ही मुझे पहचान मिली और इसलिए इस इलाके का कर्ज मुझ पर है. उन्होंने कहा कि अररिया बिहार के पिछड़े जिलों में है लेकिन उद्योग से यहां की तकदीर तस्वीर बदल सकती है.

उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि स्थानीय सांसद प्रदीप कुमार सिंह और विधायक जय प्रकाश यादव ने कई बार अररिया में उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए मुलाकात की है. हमारा भी इस क्षेत्र से पुराना नाता और लगाव रहा है. उन्होंने कहा कि अररिया का कर्ज उतारेंगे और यहां बड़ी संख्या में उद्योगों की स्थापना होगी. शाहनवाज हुसैन ने कैबिनेट से मंजूर हुए बिहार टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी 2022 का भी जिक्र अपने संबोधन में किया. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश की विशेष कृपा उद्योग विभाग पर है. एक दिन पहले ही कैबिनेट से बिहार टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी 2022 को मंजूरी मिली है. उन्होंने कहा कि इस पॉलिसी को ऐसा बनाया गया है, ऐसे इंसेंटिव्स के प्रावधान किए गए हैं कि देश भर के उद्योगपति बिहार में उद्योग लगाने के लिए जरुर प्रोत्साहित होंगे.

उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार में टेक्सटाइल उद्योगों की स्थापना से बड़ी संख्या में रोजगार पैदा होंगे और अररिया में भी इसका असर दिखेगा. उन्होंने कहा कि सीमांचल के ज्यादातर घरों से लोग रोजी रोटी के लिए बाहर जाते हैं. हमारी कोशिश है कि यहां के लोगों को यहीं रोजगार मिले ताकि वो अपने घर में रहकर जीवन यापन कर सकें. उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के लाभुकों से भी कहा कि इस योजना के तहत मिलने वाली 10 लाख की रकम से पूरी मेहनत कर उद्यम स्थापित करें. एक दिन आएगा जब 10 लाख से शुरु हुआ उद्यम करोड़ों के उद्योग में तब्दील होगा.

उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार में उद्योग औऱ उद्यमिता को बढ़ावा देने में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की भी बड़ी भूमिका है. उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों को सजग रहना होगा और नए उद्यमियों से मिलते रहकर उनकी समस्याओं का निदान कर उन्हें प्रोत्साहित करते रहना होगा. हर जिले में उद्योगों की स्थापना, युवाओं को उद्यम या उद्योग शुरु करने के लिए प्रोत्साहित करना और उनकी मदद करना हम सब की साझा जिम्मेदारी है. उन्होंने कहा कि सभी जनप्रतिनिधियों की सहभागिता बिहार के औद्योगिकीकरण के लिए जरुरी है.

अररिया में उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने उद्योगों की स्थापना के लिए जमीन तलाशने की भी अपील की. उन्होंने कहा कि तुम मुझे जमीन दो, हम तुम्हें उद्योग देंगे. उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन के अररिया दौरे के दौरान सांसद प्रदीप कुमार सिंह, विधायक जय प्रकाश यादव, बीजेपी जिलाध्यक्ष संतोष सुराना, पूर्व बीजेपी जिलाध्यक्ष नारायण झा, स्थानीय बीजेपी नेता प्रेम मिश्रा, शीतेश ठाकुर, बीजेपी के युवा नेता अतुल कुमार, अब्दुर्र रहमान व अन्य साथ रहे.