पटना के स्कूलों में बनेंगे आइसोलेशन सेंटर, कोरोना के बढ़ते आंकड़ों को लेकर लिया गया फैसला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. लगातार कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या ने सरकार की चिंता और बढ़ दी है. कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ रही संख्या को लेकर स्कूलों में भी आइसोलेशन सेंटर बनाये जायेंगे. इसके लिए वैसे स्कूलों की तलाश शुरू कर दी गयी है, जिसमें बड़े हॉल हों. हॉल के कारण आइसोलेशन सेंटर बनाने में काफी आसानी होती है. इसके लिए पटना जिले के तमाम अनुमंडल पदाधिकारियों को स्कूलों की पहचान कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है.

जिले में अभी कोरोना संक्रमितों के लिए पर्याप्त संख्या में बेड उपलब्ध हैं. लेकिन जिस तरह से जांच की गति बढ़ी है और कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है, इसके लिए एहतियात के तौर पर व्यवस्था की जा रही है. इसके साथ ही समेकित कंट्रोल रूम की व्यवस्था कर कोरोना से जुड़ी हर गतिविधि को केंद्रीकृत कर कार्रवाई की जा रही है.



पटना सदर एसडीओ तनय सुल्तानिया ने बताया कि फिलहाल कोरोना संक्रमितों के लिए पर्याप्त बेड उपलब्ध हैं. रेल कोच आइसोलेशन सेंटर भी तैयार है, जिसका उपयोग किया जा सकता है. लेकिन आइसोलेशन सेंटर के लिए स्कूलों की भी पहचान की जा रही है, जहां बड़े-बड़े हॉल हों. होम आइसोलेशन की व्यवस्था ने प्रशासन को राहत दे दी है.

बता दें कि जिले में कुल मिला कर तीन हजार से अधिक बेड कोरोना संक्रमितों के लिए हैं और उनमें फिलहाल 2400 के करीब मरीज भर्ती हैं. प्रतिदिन मरीजों की संख्या बढ़ रही है, तो डिस्चार्ज हो कर लोग घर भी लौट रहे हैं. प्रतिदिन चार सौ से पांच सौ नये मरीज सामने आ रहे हैं. हालांकि 200-250 मरीज ठीक भी हो रहे हैं, जिसके कारण बेड खाली हो रहे हैं.