देश के नए उपराष्ट्रपति होंगे जगदीप धनखड़, 200 वोट भी नहीं पा सकीं विपक्ष की उम्मीदवार

लाइव सिटीज पटना: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ देश के नए उपराष्ट्रपति होंगे. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन यानी एनडीए के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ ने विपक्ष की संयुक्त उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को हराया. धनखड़ को 528 वोट मिले, इसमें से 15 वोट अमान्य रहे. जबकि मार्गरेट अल्वा को 182 वोट पड़े. जगदीप धनखड़ ने विपक्ष के उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को 346 मतों के अंतर से हराया. जगदीप धनखड़ 11 जुलाई को वह पद की शपथ लेंगे. मौजूदा उपराष्ट्रति वेंकैया नायडू का कार्यकाल 10 अगस्त को खत्म हो रहा है. शनिवार को संसद में उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए कुल 780 में से 725 सांसदों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. लोकसभा के महासचिव उत्पल कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस कर उनके नाम का औपचारिक ऐलान किया. हालांकि एनडीए उम्मीदवार धनखड़ का जीत तय माना जा रहा था.

शनिवार को संसद में उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए कुल 780 में से 725 सांसदों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. उपराष्ट्रपति चुनाव में एसपी, शिवसेना के दो और बीएसपी के एक सांसद ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया. उधर टीएमसी के 34 सांसदों ने वोटिंग नहीं की. टीएमसी ने पहले ही वोटिंग से किनारे का ऐलान किया था. हालांकि पार्टी के आदेश के बावजूद टीएमसी के शिशिर अधिकारी और दिव्येंदु ने मतदान किया. भाजपा के दो सांसदों सनी देओल और संजय धोत्रे ने भी स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए वोटिंग से किनारा किया. उपराष्ट्रपति चुनाव में करीब 93 फीसदी मतदान दर्ज किया गया. अधिकारियों ने बताया कि 50 से अधिक सांसदों ने अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं किया.

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले संसद भवन पहुंचकर वोट डाला. पीएम मोदी के अलावा पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने व्हील चेयर में पहुंचकर वोट डाला. सोनिया गांधी समेत कांग्रेस और सत्ताधारी पक्ष के सांसदों ने वोटिंग की. 71 वर्षीय जगदीप धनखड़ एक प्रसिद्ध वकील रहे हैं. उन्होंने राजस्थान उच्च न्यायालय और देश के उच्चतम न्यायालय दोनों में वकालत की है. धनखड़ के जीतने के बाद एक अजीब संयोग बना है. लोकसभा के अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति एक ही राज्य से हैं. वर्तमान में ओम बिरला लोकसभा अध्यक्ष हैं और वह राजस्थान के कोटा संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.