श्रीवास्तव से मिले चौधरी, JDU ने कहा – नहीं जानते कौन हैं वो

पटना : बिहार के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक बार फिर मुश्किल में डाल दिया है. चौधरी ने गुजरात में जदयू के चुनावी प्रदर्शन पर तंज करते हुए कहा है कि दिल्ली का पूरे जोर के बाद भी ये लोग 99 पर ही सिमट गए. जदयू उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. चौधरी ने आज जदयू के शरद गुट के नेता अरुण श्रीवास्तव से मुलाक़ात की है. चौधरी की श्रीवास्तव से मुलाक़ात के अब कई राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं. मालूम हो कि चौधरी जदयू से नाराज नेताओं की जमात में हैं. उन्होंने पहले भी कई मुद्दों पर अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोला है.

चौधरी ने इससे पहले आज गुजरात में जदयू के प्रदर्शन पर तंज करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी और अल्पेश ठाकोरे को जीत की बधाई भी दी है. मालूम हो कि बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद से ही उन्हें पार्टी में भाव मिलना कम हो गया था. माना जा रहा है कि चौधरी जल्द ही अलग रास्ता अख्तियार कर सकते हैं.



nitish-kumar-11
CM नीतीश कुमार को पहले भी मुश्किल में डाल चुके हैं उदय नारायण चौधरी
जदयू का पलटवार

जदयू के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी और अरुण श्रीवास्तव की इस मुलाक़ात पर जदयू ने चुप्पी साध ली है. इस मुलाक़ात पर जदयू प्रवक्ता अजय आलोक ने एक टीवी चैनल से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए दो टूक कहा कि ‘वो चौधरी को नहीं जानते.’ चैनल के एंकर द्वारा बार-बार पूछे जाने पर आलोक ने इतना ही कहा कि वे ऐसे किसी भी जदयू नेता को नहीं जानते जो पार्टी की नीतियों पर न चलता हो.

पुरानी है रार

बता दें कि पिछले दिनों उदय नारायण चौधरी उस समय अचानक चर्चा में आ गये थे, जब उन्होंने दलित के मुद्दे पर अपनी ही सरकार को बिहार में घेरा था. उस समय उनके साथ फुलवारी के जदयू विधायक श्याम रजक भी साथ में थे. यह मुद्दा भी राजनीतिक गलियारों में छा गया था. वहीं इसे लेकर विपक्ष भी हमलावर बन गया था. उदय नारायण चौधरी को भाजपा के वरीय नेता यशवंत सिन्हा के साथ भी पटना में एक कार्यक्रम में देखा गया था.

चौधरी के इस रुख के बाद पार्टी ने उनपर कड़ी प्रतिक्रिया भी दी थी. प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने पूर्व मंत्री श्याम रजक और चौधरी पर पलटवार करते हुए कहा था कि इन दोनों नेताओं को पद की लालसा थी. जो पूरी नहीं हुई. तो किसी न किसी बहाने वह लालसा तो बाहर आ ही जाती है. वशिष्ठ नारायण सिंह ने स्पष्ट कहा था कि जदयू इस मामले को गंभीरता से देख रहा है. अगर ये पार्टी के खिलाफ जाएंगे तो जदयू इन दोनों पर कार्रवाई जरूर करेगा. इसके बाद श्याम रजक के तेवर थोड़े ढीले जरुर पड़े थे.

यशवंत सिन्हा पहुंचे पटना, उदय नारायण चौधरी दिखे साथ में, नीतीश सरकार पर ली चुटकी

श्याम रजक और उदय नारायण चौधरी को जदयू से मिला है करारा जवाब