JDU में फंसा राज्यसभा का सीन : मुश्किल में किंग महेंद्र, नीतीश मेहरबान हैं के सी त्यागी पर

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पहली बार…हां ! हां !! पहली बार बिहार के किंग महेंद्र की सांसदी पर ग्रहण लगता दिख रहा है. के सी त्यागी उनकी राह के सबसे बड़े दुश्मन बने बैठे हैं. कभी किसी भी पार्टी से राज्य सभा पहुंच जाने वाले किंग महेंद्र आज के पहले कभी इतनी मुश्किल में नहीं पड़े. किंग महेंद्र की मुश्किलों पर बिहार के भूमिहार समाज की नजर भी है. वह बिहार में ही बिहार के भूमिहार किंग महेंद्र को उत्तर प्रदेश के भूमिहार के सी त्यागी के मुकाबले पिछड़ते देख रहा है.

किंग महेंद्र राज्य सभा के सबसे अमीर सांसद हैं. बिहार के जहानाबाद के रहने वाले. फार्मा इंडस्ट्रीज के बड़े बादशाह. दुनिया के दौलतमंदों की लिस्ट में भी स्थान रखते हैं. राजनीति की शुरुआत कांग्रेस से हुई. पर, बाद में राजद और जदयू से भी राज्य सभा में पहुंच जाते रहे. अभी जदयू से ही हैं. आगे देखिये वीडियो, क्या है बिहार से राज्य सभा का सीन….



जानने वाले कहते हैं कि ‘थैली’ ही किंग महेंद्र की सबसे बड़ी ताकत है. जिस पार्टी में रहे,वहां ‘थैली’ जमा करते-कराते रहे. जदयू के लिए वे बड़े काम के सांसद रहे हैं. पर, इस बार मामला बहुत फंस गया है.

कारण के सी त्यागी हैं. जदयू के पास वैसे भी राज्य सभा के लिए अभी सीटें कम हैं. फिर के सी त्यागी से नीतीश कुमार का बड़ा कमिटमेंट है. त्यागी को जदयू में शरद यादव ने बड़ा बनाया था. पर, जब शरद यादव को जदयू से विदा कर देने का वक़्त आया, तो त्यागी नीतीश कुमार के पाले में आ गए. शरद यादव से खुली दुश्मनी लेकर नीतीश कुमार के दिल में समा गए.

अब त्यागी को इनाम पाने का इंतजार है. नीतीश कुमार राज्य सभा में भेजने को कह चुके हैं. सो, बिहार से जदयू से दो-दो भूमिहार का राज्य सभा में जाना नामुमकिन-सा है. यह नामुमकिन सीन ही किंग महेंद्र की चैन छीने हुए है. नीतीश कुमार के साथ अब भाजपा है, सो फंड के लिए भी किंग महेंद्र की बहुत जरुरत नहीं रह गई है.

मांझी का छलका दर्द : सीएम की कुर्सी से इस्तीफा देना मेरी ऐतिहासिक भूल, नीतीश पर भी बोले
सीएम नीतीश बोले- मुझ पर कोई गोली चलाये या पत्थर, मैं बदला नहीं लेता

भाजपा में किंग महेंद्र के लिए कोई स्पेस नहीं है. कांग्रेस को राज्य सभा में एक सीट मिल सकती है. इसके लिए मीरा कुमार, सी पी जोशी, अखिलेश प्रसाद सिंह और शकील अहमद के नाम चल रहे हैं. जहानाबाद की पॉलिटिक्स के कारण अखिलेश सिंह और किंग महेंद्र की दुश्मनी भी जगजाहिर है. ऐसे में, किंग महेंद्र के लिए अभी बहुत ही मुश्किल डगर है. लेकिन,यह भी सच है कि किंग महेंद्र अंतिम घंटे में करिश्मा से कहीं न कहीं से टिकट हासिल कर लेते हैं, सो आगे के सीन का अभी करिए इंतजार.

देखें VIDEO : अपनों ने ही जेयाद की किडनैपिंग की रची साजिश…