कैमूर डीएम ने जीता कोरोना से जंग, मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बनाया विधानसभा चुनाव में आइकॉन

साइव सिटीज, ब्रजेश दुबे: कैमूर के कर्तव्यनिष्ठ युवा जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी के नाम से एक और उपलब्धि जुड़ गई है. उन्हें बिहार विधानसभा चुनाव के लिए आइकॉन के रूप में नामित किया गया है. डीएम के इस उपलब्धि से कैमूर का नाम रोशन हुआ है. बता दें कि हाल ही में डीएम ने वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ते हुए एक बार फिर वापसी की है.

जिलाधिकारी नवल किशोर चौधरी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसके बावजूद उन्होंने कोरोना से जंग जीतकर एक बार फिर जिले में निष्पक्ष, भयमुक्त और पारदर्शी चुनाव संपन्न कराने के लिए कमर कस ली है. आपको बता दें कि मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने भी कैमूर डीएम के कार्यों की सराहना की है.



मुख्य चुनाव आयुक्त ने गया में आयोजित बैठक में कैमूर डीएम से मुलाकात भी की. उन्होंने कहा कि वह डॉक्टर भी है और कोरोना संक्रमित भी थे. मुख्य चुनाव आयुक्त ने जिलाधिकारी सह निर्वाचन पदाधिकारी को जागरुकता के लिए आइकॉन बनाने का निर्देश मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को दिया है.

आपको बता दें कि कैमूर डीएम को कई बार उनके बेहतर कार्यों के लिए सम्मानित किया जा चुका है. लॉकडाउन के दौरान भी कैमूर डीएम ने बेहतर कार्यकुशलता का परिचय दिया था. इस दौरान कर्मनाशा बॉर्डर पर सर्वाधिक प्रवासी मजदूर कैमूर के रास्ते बिहार आए. उनके गंतव्य स्थान तक भेजने के लिए कैमूर डीएम के नेतृत्व में जिला प्रशासन की ओर से काफी व्यवस्थित और बेहतर इंतजाम किए गए थे.

कोरोना काल में भी डीएम के दिशा निर्देश में काफी बेहतर कार्य हो रहे हैं. प्रवासी मजदूरों को कोई कठिनाई नहीं पहुंची. कैमूर डीएम को आईकॉन बनाए जाने से जिला प्रशासन के प्रशासनिक अफसरों सहित आम लोगों में भी खुशी का माहौल है. सभी ने डीएम के इस कार्यों की सराहना की है.