सड़क दुर्घटना में बाल- बाल बचे कैमूर के एसपी दिलनवाज अहमद

कैमूर/भभुआ (ब्रजेश दुबे): कैमूर जिले के मोहनिया एनएच 2 पर शनिवार को कैमूर एसपी दिलनवाज अहमद की गाड़ी पीछे से आ रही एक बस से टकराते टकराते बच गई. हालांकि इस घटना में किसी को खरोच तक नहीं आई. लेकिन बस के दोनों चक्के सड़क के डिवाइडर से टकराकर घटनास्थल पर ही भ्रष्ट हो गए.

दरअसल हुआ यूं की कैमूर एसपी दिलनवाज अहमद अपनी सरकारी गाड़ी से मोहनिया स्थित एनएच 2 के पास महाराणा प्रताप कॉलेज के सामने सड़क पार करना चाह रहे थे. एसपी के गाड़ी का चालक इंडिकेटर भी दे रहा था. लेकिन पीछे से आ रही बस के चालक इशारा को नहीं समझते हुए गाड़ी तेज रफ्तार में ही आगे बढ़ाया.

हालांकि एसपी का चालक अपने सूझबूझ का परिचय देते हुए अपने पीछे वाली गाड़ी से अपने को बाल-बाल बचा लिया. परंतु प्रवासी मजदूरों को वतन वापस कर लौट रही बस सड़क के डिवाइडर से टकरा गई. संजोग अच्छा रहा की डिवाइडर से टकराते ही उसके एक साइड का दोनों टायर मौके पर ही भ्रष्ट हो गया और गाड़ी स्वत ही रुक गई.

घटना के प्रत्यक्षदर्शी खुद एसपी भी इस घटना को देखकर हतप्रभ हो गए. बस के चालक को कुछ देर तक हिरासत में लिया गया और पूछताछ के बाद खुद एसपी ने उसे छोड़ा ही नहीं. बाकायदा बस के दोनों चक्के को अपने पैसे से बनवाया भी. एसपी ने बताया कि चालक से पूछताछ के बाद पता चला कि वह मेरे गाड़ी के चालक द्वारा दिए जा रहे इंडिकेटर को उसने यह समझ लिया कि उनकी गाड़ी आगे जाने वाली है. इसीलिए उसने अपनी गाड़ी को डिवाइडर के करीब पहुंचा दिया.

बहरहाल रमजान के इस पाक माह में घटना से बाल-बाल बचना किसी दैवीय शक्ति की ओर इशारा करता है क्योंकि पीछे से आ रही वह गाड़ी तेज रफ्तार में थी. और कुछ भी हो सकता था.

लेकिन चालक के सूझबूझ से बड़ा हादसा टल गया. याद रहे कि एसपी की दरियादिली तथा घटना को अहमियत नहीं देते हुए चालक को छोड़े जाने एवं खुद ही सावधानी एवं संयम से काम लेने के एसपी की दृढ़ इच्छाशक्ति को मौके पर मौजूद लोगों में खूब चर्चा में रहा.

बता दें कि इस समय वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर बाहर से आने वाले मजदूरों का सिलसिला लगातार जारी है. जिनकी विधि व्यवस्था का जायजा लेने खुद एसपी प्रतिदिन बिहार यूपी की बॉर्डर कर्मनाशा के पास अक्सर जाते रहते हैं. समझा जाता है कि इसी दौरान यह घटना घटित होने से बाल-बाल बची है.