तेजप्रताप पर बोले लालू – आपलोग टेंशन मत लीजिये, आई एम हेड ऑफ द फैमिली

lalu-and-tej-pratap
लालू प्रसाद और तेज प्रताप यादव (फाइल फोटो)

पटना : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने फिर कहा है कि उन्होंने अपने बड़े बेटे तेज प्रताप यादव को पीएम पर आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में समझा दिया है. उन्होंने कहा कि, ‘मैंने अपने बेटे तेज प्रताप को समझाया था कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी. मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं, उनके बारे में ऐसा नहीं कहना चाहिए.’ लालू प्रसाद ने ये बातें आज गुरुवार को ‘न्यूज़18 इंडिया’ के एक कार्यक्रम ‘चौपाल’ में कही.

इस कार्यक्रम के दौरान जब उनसे पूछा गया कि क्या वे तेज प्रताप के बयान पर माफ़ी मांगेंगे, तो उन्होंने अपने जाने-पहचाने अंदाज में जवाब दिया कि ‘आप उसकी चिंता मत कीजिये. मैं उसका पिता बोल रहा हूं. आई एम हेड ऑफ द फैमिली.’ मालूम हो कि बीते दिनों तेज प्रताप ने एक सभा कहा था कि वे प्रधानमंत्री मोदी की खाल उधेड़वा देंगे. तेज प्रताप ने यह बयान गृह मंत्रालय द्वारा लालू प्रसाद की सुरक्षा में कटौती करने के बाद दिया था.



कई मुद्दों पर बोले लालू

आज उक्त कार्यक्रम में लालू प्रसाद कई मुद्दों पर खुल कर बोले. राम मंदिर, गाय, वंशवाद जैसे मुद्दों पर भी उन्होंने अपनी बात रखी. लालू ने इस दौरान भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि उन्हें अपना वंशवाद नहीं दिखता. इनके 40 प्रतिशत नेताओं के बच्चे पॉलिटिक्स में हैं. यूपी के विधानसभा चुनाव में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि किसी भी नेता के बेटा-बेटी को टिकट नहीं मिलेगा. लेकिन उन्हें नेताओं की जिद के आगे मजबूर होना पड़ा. भाई राजनाथ सिंह के बेटा को भी टिकट मिला.

लालू ने आगे कहा कि वंश होना भारतीय राजनीति और धर्म के लिए अच्छा है, निरवंश होना बुरी बात. नीतीश कुमार के वंश है, लेकिन वह चुप रहता है. योगी जी को वंश होता तो उसे भी टिकट मिलता. रामविलास पासवान के परिवार में देखिए. बेटा, भाई सब पार्टी में हैं. उन्होंने कहा कि जब जज का बेटा जज हो रहा है, वकील का बेटा वकील, डॉक्टर का बेटा डॉक्टर हो रहा है, तो फिर नेताओं पर ही सवाल क्यों. शरद पवार की बेटी भी तो है राजनीति में.

इसी कार्यक्रम में यह भी बोले लालू : ’22 पार्टियों का नहीं होगा कोई नेता तो मैं बनूंगा सबका लीडर’

राम को बदनाम कर रही भाजपा

राजद सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा के लोग भगवान राम को भी राजनीति में लाकर बदनाम कर रहे हैं. योगी और सुब्रमण्यम स्वामी क्या बनाना चाहते हैं इस देश को? मैं जानता हूं कि ये सब पाखंडी हैं. मैं कृष्णवंशी हूं, राम हर इंसान के हृदय में हैं. इस बारे में जो सुप्रीम कोर्ट का फैसला होगा वह सबको मानना पड़ेगा. मुस्लिम भाई भी यह मानते हैं.