लालू यादव ने दिल्ली जाने से पहले महंगाई कर किया बड़ा हमला, बस तीन शब्दों में कह दी मन की पीड़ा; केंद्र निशाने पर

लाइव सिटीज, राजेश ठाकुर : आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव अभी बिहार में हैं. पटना में उन्होंने कल पार्टी मुख्यालय में 6 टन की लालटेन का उद्घाटन किया. इसके बाद आरजेडी शासन काल की उपलब्धियां गिनाईं. साथ ही उन्होंने नीतीश सरकार पर हमला भी किया. अब उनका दिल्ली वापस लौटने का प्रोग्राम भी है. वे आज किसी भी समय दिल्ली जा सकते हैं.

लेकिन दिल्ली जाने से आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने आज गुरुवार को अभी-अभी अपने जीवन की सबसे संक्षिप्त टिप्पणी की है. उन्होंने महज तीन शब्दों का ट्वीट किया है. उस ट्वीट में आप अक्षर भी ​गिन सकते हैं, जो अंगुली में पर गिनने लायक है. इसमें महज छह अक्षर को शामिल किया गया है. लेकिन खास बात कि इसके साथ उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के आफिशियल एकाउंट से ट्वीट किया गया है. वह ट्वीट तो महज एक शब्द का है, उसमें चार अक्ष्रर हैं.

दरअसल, राष्ट्रीय जनता दल ने महंगाई को लेकर एक ट्वीट किया गया है. इसमें केवल एक शब्द ‘टमाटर’ लिखा गया है. इसी ट्वीट को रिट्वीट करते लालू यादव ने लिखा है- ‘सरसों का तेल’. दोनों ट्वीट के महज चार शब्दों से उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ बड़ा हमला कर दिया है. उन्होंने टमाटर और सरसों का तेल के बहाने महंगाई को अपना मुद्दा बनाया है.

बता दें कि टमाटर अभी बाजार में 80 रुपये किलो के आसपास बिक रहा है. यह रेट कई दिनों से स्थिर बना हुआ है. यदि अच्छी क्वालिटी का टमाटर नहीं हुआ तो रेट कम भी हो जाता है. इसी तरह, सरसों का तेल भी इन दिनों अचानक महंगा हो गया है. बीच में उसकी कीमत में गिरावट आयी थी, लेकिन फिर से कुछ ब्रांड तो 200 रुपये प्रति किलो की दर से बिकने लगा है. यदि कोल्हू का सरसों तेल लेना हो तो फिर इसकी कीमत 250 रुपये प्रति किलो के आसपास है. कोल्हू का पेरा हुआ सरसों तेल तो आसानी से उपलब्ध भी नहीं होता है.

बहरहाल, आरजडी प्रमुख लालू यादव ने सरसों का तेल ट्वीट कर एवं टमाटर को रिट्वीट कर अपनी संक्षिप्त टिप्पणी में बड़ा तंज कस दिया है. इसके पहले भी उन्होंने महंगाई को लेकर केंद्र के खिलाफ तंज कसते रहे हैं. अब देखना दिलचस्प होगा कि लालू यादव के ‘टमाटर’ और ‘सरसों के तेल’ को विरोधी किस प्रकार लेते हैं और सियासी गलियारे में इस पर किस तरह का पलटवार आता है?