लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से कहा कि छोड़िए, बच्चा है बच्चों से ग़लती हो जाती है. आखिर लालू यादव किसे छोड़ने की बात कर रहे हैं. दरअसल एक नेशनल न्यूज चैनल के रिपोर्टर ने मुंगेर में आयोजित कार्यक्रम में राजद सुप्रीमो लालू यादव को ललुआ कहा, इस बदजुबानी पर हंगामा खड़ा हो गया है. हालांकि, पत्रकार ने सफाई में कहा कि उसने प्यार से ललुआ कह दिया. सोशल मीडिया पर उस घटना का वीडियो ट्रेंड कर रहा है. ट्वीटर पर इसकी तीखी आलोचना हो रही है.

ट्वीटर पर राबड़ी देवी ने भी पत्रकार साहब का क्लास लगा दी. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि यह अपने बाप को भी लड़-प्यार से ऐसे ही बोलता होगा. बेचारे को माई-बाप ने संस्कार ही ऐसे दिए होंगे. इस बेचारे की क्या ग़लती ?

इसी ट्वीट को लेकर लालू यादव ने राबड़ी देवी से कहा कि छोड़िए, बच्चा है बच्चों से ग़लती हो जाती है. बचपन की आदत देर से छूटती है.

वहीं, राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और राज्यसभा के पूर्व सदस्य शिवानंद तिवारी ने इस मामले पर कहा, “दरअसल हम जो लोकतंत्र और संविधान पर खतरे की बात कह रहे हैं, इन जैसे पत्रकार अपनी सामंती ​द्विजवादी मानसिकता के जरिय समझा देते हैं. लोकतंत्र और संविधान में यकीन रखने वाले लोग, दलित और पिछड़ा जिसे अपना आदर्श मानता है, उसे समाज का अभिजात्य तबका लालू नहीं बल्कि ललुआ कहता है. संविधान और लोकतंत्र ने हमें बराबरी का हक दिया है. सम्मान से जीने का हक दिया है. लेकिन हमारे समाज में आज भी ऐसी मानसिकता है जो गैर बराबरी को बनाये रखना चाहता है.”