गिरिराज सिंह के बयान पर बोले चिराग – इस तरह के प्रश्न भारत की परम्परा पर उंगलिया उठाते हैं

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता गिरिराज सिंह के बयान पर बिहार में सियासत गरमा गई है. जेडीयू के पलटवार के बाद अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पार्टी लोजपा ने गिरिराज सिंह को आड़े हाथ लिया है. लोजपा सांसद चिराग पासवान ने कहा कि इस तरह के प्रश्न भारत की परम्परा पर उंगलिया उठाते हैं. बता दें कि गिरिराज सिंह ने फेसबुक पर इफ्तार पार्टी से जुड़ी कुछ तस्‍वीरें शेयर कर नेताओं पर निशाना साधा था.

मंगलवार को चिराग पासवान ने ट्वीट कर गिरिराज सिंह को नसीहत दी है. उन्होंने कहा है कि लोक जनशक्ति पार्टी के स्थपाना से ही सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास का मूल मंत्र पार्टी के आत्मा से जुड़ा हुआ है. मुझे खुशी है की इस मूल मंत्र को पीएम नरेंद्र मोदी ने भी दोहराया है. त्योहार मनाने से समाज में समरस्ता आती है. इस तरह के प्रश्न भारत की परम्परा पर उँगलिया उठाते है.

वहीँ, JDU नेता केसी त्यागी ने गिरिराज सिंह के शेयर किए हुए चार फोटो पर कहा कि मैं उन्हें पांचवां फोटो भेज रहा हूं, जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आबूधाबी में सबसे बड़ी मस्जिद में वहां के शेख जाहिद और इमाम के साथ घूमते और बात करते दिख रहे हैं. पीएम मोदी ने सबका विश्वास जितने का संकल्प लिया है और आबूधाबी की तस्‍वीर उसका प्रतीक है. बता दें कि गिरिराज सिंह ने फेसबुक पर इफ्तार पार्टी से जुड़ी कुछ तस्‍वीरें शेयर कर नेताओं पर निशाना साधा था.

क्या कहा गिरिराज ने ?

गिरिराज सिंह ने फेसबुक पर बिहार में राजनीतिक दलों के दावत-ए-इफ्तार की तस्वीरें शेयर करते हुए टिप्‍पणी की है. इस तस्‍वीर में सीएम नीतीश कुमार, रामविलास पासवान, सुशील कुमार मोदी, जीतन राम मांझी समेत कई नेता हैं.

ये भी पढ़ें : गिरिराज सिंह को मिला भाजपा का समर्थन, प्रेम कुमार बोले – ठीक ही तो कह रहे हैं
ये भी पढ़ें : ‘गिरिराज जी हिन्दू का मतलब हिंसा नहीं होता, हम ढोंग नहीं करते, ना ही हम दिखावा करते हैं’

गिरिराज ने लिखा, ‘कितनी खूबसूरत तस्वीर होती जब इतनी ही चाहत से नवरात्रि पे फलाहार का आयोजन करते और सुंदर सुदंर फ़ोटो आते??…अपने धर्म-कर्म में हम पिछड़ क्यों जाते हैं? वहीं दिखावा में आगे रहते हैं’‬दरअसल, केंद्र में नई सरकार के गठन के बाद से बिहार में दावत-ए-इफ्तार का दौर लगातार जारी है.

इफ्तार की शुरूआत होने के साथ ही सीएम नीतीश कुमार की पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के साथ बढ़ती नजदीकियों को देखते हुए ये कयास लगने शुरू हो गए हैं कि मोदी कैबिनेट में शामिल नहीं होने वाले नीतीश फिर से अपना रुख बदल सकते हैं.

About परमबीर राजपूत 2247 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*